270 परमेश्वर के प्रति निष्ठावान हृदय

1

हे ईश्वर! भले ही तेरे लिए मेरा जीवन काम का नहीं,

फिर भी चाहूँ इसे तुझे अर्पित करना।

इंसान भले ही तुझे प्रेम करने योग्य न हो,

हालाँकि उसका प्यार और दिल आख़िरकार बेकार है,

फिर भी तू देख सके नेक इरादे उसके।

हालाँकि इंसानी देह तेरी स्वीकृति के अनुरूप नहीं,

मैं चाहूँ, तू दिल मेरा कबूल करे।

मैं धूल से भी गयी-गुज़री हूँ,

तेरे लिए कुछ न कर पाऊँ, पर अपना वफ़ादार दिल तो

तुझे दे ही सकती हूँ।

2

हे ईश्वर! भले ही तेरे लिए मेरा जीवन काम का नहीं,

मैं अपना दिल तुझे ही दूंगी।

भले ही मैं तेरे लिए कुछ कर न पाऊँ,

तुझे वफ़ादारी से संतुष्ट करने, ख़ुद को अर्पित करुँगी।

मैं जानूँ, तुझे देखना चाहिए दिल मेरा।

मेरे दिल की इच्छा को, तुझसे प्रेम करने के मेरे ख़्यालों को,

तू स्वीकार कर, बस इतना चाहूँ।

मैं धूल से भी गयी-गुज़री हूँ,

तेरे लिए कुछ न कर पाऊँ, पर अपना वफ़ादार दिल तो

तुझे दे ही सकती हूँ।

3

हे ईश्वर! भले ही तेरे लिए मेरा जीवन काम का नहीं,

फिर भी चाहूँ इसे तुझे अर्पित करना।

इतने समय साथ रहकर भी, मैं तुझे जान न पायी।

तुझे कभी न चाहा मैंने, ये सबसे बड़ा कर्ज़ है मुझ पर।

तेरी पीठ पीछे ऐसी बातें भी कहीं—

हे प्रिय ईश्वर, जो कहनी नहीं चाहिए थीं।

इनसे महसूस करूँ, मैं तेरे एहसान तले दबी हूँ।

मैं धूल से भी गयी-गुज़री हूँ,

तेरे लिए कुछ न कर पाऊँ, पर अपना वफ़ादार दिल तो

तुझे दे ही सकती हूँ।

पिछला: 269 अपने क्रूसीकरण के समय पतरस की प्रार्थना

अगला: 271 मैं फिर से जीवित हो जाऊँगा

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें