156 परमेश्वर के लिए मेरा प्यार कभी नहीं बदलेगा

1

एक विनम्र इंसानी शरीर में, वह धैर्य से काम करता है,

लेकिन इंसान का प्यार हासिल करना मुश्किल है।

जीवन भर कठिनाई का सामना किया,

कौन जानता है कि कितना दर्द वह सहता है,

हवा और बारिश के बीच भटकते हुए।

अनगिनत वचन कहे हैं उसने,

दिल के टुकड़े हो जाने की हद तक फ़िक्र की है उसने।

दशकों से वह इंसान को बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है।

दशकों से वह इंसान को बचाने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है।

2

परमेश्वर के वचन से,

सत्य को समझता हूं, जानता हूं कि कैसा होना चाहिए मुझे।

परमेश्वर के वचनों से देखा है मैंने सब कुछ।

उसका सत्य है सबसे क़ीमती, उसका सत्य है अनमोल।

कब मैं परमेश्वर के दिल को, उसके प्यार को समझ पाऊंगा,

ताकि मैं दे सकूं उसे थोड़ा दिलासा?

3

परमेश्वर को देता हूं अपना दिल मैं,

चुकाता हूं उसका प्यार।

जब तक चलती हैं मेरी सांसें,

तब तक रहूंगा परमेश्वर का वफ़ादार मैं।

ईमानदारी से पूरा करूंगा अपना कर्तव्य मैं,

परमेश्वर की गवाही देने,

उसकी महिमा करने के लिए अंतिम पीड़ा सहूंगा मैं।

परीक्षण और विपत्तियां जितनी भी बड़ी हों,

परमेश्वर से प्यार सबसे सार्थक चीज़ है।

उसके वचन मेरे दिल को जीतते हैं,

उसकी आज्ञा का पालन करने की मेरी इच्छा अडिग है।

उसके वचन मुझे शुद्ध करते हैं,

परमेश्वर के लिए मेरा प्यार बदलेगा कभी नहीं,

उसके वचन मुझे शुद्ध करते हैं,

परमेश्वर के लिए मेरा प्यार बदलेगा कभी नहीं।

पिछला: 155 तुम्हारी रोशनी में आता है हर देश

अगला: 157 ऐसे लोगों का एक समूह है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें