135 परमेश्वर के लिये तड़प

1

परमेश्वर को जाते देखकर मेरा दिल टूटता है।

पिछली बातें मेरे मन में घूमती हैं, परमेश्वर की शिक्षाएँ मेरे कानों में गूंजती हैं।

दुखी न हो, परेशान न हो।

हमारी जुदाई के वक्त, ऐसे कितने ही वचन मेरे दिल में हैं जिन पर मैं भरोसा करना चाहती हूँ।

हे परमेश्वर, हे परमेश्वर, प्रिय परमेश्वर!

हम फिर कब मिलेंगे, तेरी शिक्षाओं को हम फिर कब सुनेंगे?


2

मैं परमेश्वर के लिये शोक में डूबी हूँ, मेरे दिल में ग्लानि है।

इतने सारे अपराध किए हैं, उनकी पूर्ति मुश्किल है, एक कर्ज़ है दिल पर जो बाकी है।

परमेश्वर के वचन न्याय करते हैं, वे मुझे दिलासा देते हैं।

वो मुझे बार-बार उपदेश देता है, और तसल्ली से सिखाता है; उसके वचन हर कदम पर मुझे राह दिखाते हैं।

हे परमेश्वर, हे परमेश्वर, प्रिय परमेश्वर!

हमारा दिल तेरे लिए तरसता है, हम तेरे सार्वजनिक प्रकटन का स्वागत करते हैं।


3

मैं परमेश्वर के अनुग्रह के लिए लालायित हूँ, परमेश्वर के लिए तरस रही हूँ।

मैं भयंकर मुश्किलों और संकट में परमेश्वर के साथ चलती हूँ; प्रतिकूलता में, मैं उसके प्रेम को अधिक गहराई से महसूस करती हूँ।

शर्म, आँसू, चोट और पीड़ा है।

मुश्किलों और शुद्धिकरण में, परमेश्वर के वचन मेरे साथ होते हैं; मैं अपनी गवाही में दृढ़ रहती हूँ, मैं शैतान पर विजयी होती हूँ।

हे परमेश्वर, हे परमेश्वर, प्रिय परमेश्वर!

तू हमेशा हम पर नज़र रख, ताकि हम तेरे प्रेम के आलिंगन में रहें।


4

मैं गुज़रे वक्त पर जो हमने साथ जिए, अंतहीन बात कर सकती हूँ।

फिर भी मेरी आँखों से आँसू छलक जाते हैं, मेरे पास शब्द नहीं हैं, मेरे दिल में परमेश्वर के उपदेश यादों के रूप में समाए हैं।

मैं दुनिया के छोर तक जाती हूँ, समुद्र की गहराइयों तक जाती हूँ।

सफ़र कितना भी मुश्किल हो, मैं अपने लक्ष्य को पूरा करने में कोई कसर नहीं रखूँगी।

हे परमेश्वर, हे परमेश्वर, प्रिय परमेश्वर!

तू सदा हमारा परमेश्वर है, हम सदा तुझसे प्यार करेंगे, तेरे रहेंगे।

पिछला: 134 काश मैं सदा तुम्हारे साथ रह पाऊँ

अगला: 136 काश मैं हर दिन परमेश्वर के साथ होती

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें