781 इंसान से परमेश्वर की अंतिम अपेक्षा है कि इंसान उसे जाने

1

परमेश्वर के वचनों को जानने की रीति,

है उसे और उसके काम को जानना।

दर्शनों को जानना यानी देहधारी ईश्वर को,

उसकी मानवता, वचन और काम को जानना।

2

परमेश्वर के वचनों से, जानता है उसे इंसान।

ईश-वचनों से, उसकी इच्छा को समझे इंसान।

ईश-कार्य से, उसके स्वभाव को जाने इंसान।

ईश-कार्य से, उसके स्वरूप को जाने इंसान।

पूरा हो जाने पर काम परमेश्वर का,

परमेश्वर को जान लेना, अंतिम परिणाम है,

परमेश्वर की इंसान से अंतिम अपेक्षा है।

ये उसकी अंतिम गवाही के लिये है।

परमेश्वर के इस काम को करने की वजह है,

मुड़ जाए पूरी तरह उसकी ओर इंसान आख़िरकार।

3

ईश-आस्था है पहला कदम उसे जानने का।

शुरुआती आस्था बदले गहरी आस्था में—

ये रीति है परमेश्वर को जानने की,

उसके काम का अनुभव करने की।

4

अगर परमेश्वर में आस्था तुम्हारी सिर्फ़ विश्वास की है,

नहीं है आस्था उसे जानने की, तो सच्चाई नहीं है तुम्हारी आस्था में;

बेशक तुम शुद्ध नहीं हो अपनी आस्था में।

पूरा हो जाने पर काम परमेश्वर का,

परमेश्वर को जान लेना, अंतिम परिणाम है,

परमेश्वर की इंसान से अंतिम अपेक्षा है।

ये उसकी अंतिम गवाही के लिये है।

परमेश्वर के इस काम को करने की वजह है,

मुड़ जाए पूरी तरह उसकी ओर इंसान आख़िरकार।

अगर परमेश्वर के काम का अनुभव लेते हुए,

परमेश्वर को इंसान धीरे-धीरे जान जाता है,

तो स्वभाव भी फिर उसका धीरे-धीरे बदलता है,

आस्था भी उसकी ज़्यादा सच्ची हो जाती है।

ईश्वर के प्रति आस्था में सफल होकर, उसे पूरी तरह पा चुका होगा इंसान।

बड़ी मुश्किलों से फिर देहधारण किया परमेश्वर ने,

ताकि जान सके, देख सके परमेश्वर को इंसान।

पूरा हो जाने पर काम परमेश्वर का,

परमेश्वर को जान लेना, अंतिम परिणाम है,

परमेश्वर की इंसान से अंतिम अपेक्षा है।

ये उसकी अंतिम गवाही के लिये है।

परमेश्वर के इस काम को करने की वजह है,

मुड़ जाए पूरी तरह उसकी ओर इंसान आख़िरकार।

परमेश्वर को जानकर ही उसे प्रेम कर सकता है इंसान।

और प्रेम करने के लिये, परमेश्वर को जाने इंसान।

कैसे भी खोजे, परमेश्वर को अवश्य जाने इंसान।

यही तरीका है ईश-इच्छा को पूरा करने का।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल परमेश्वर को जानने वाले ही परमेश्वर की गवाही दे सकते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 780 परमेश्वर उन्हें पाना चाहता है जिन्हें उसका सच्चा ज्ञान है

अगला: 782 परमेश्वर को जानने के लिए तुम्हें उसके कार्य के तीनों चरणों को जानना होगा

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें