166 काश हम जान जायें परमेश्वर की मनोहरता

1 परमेश्वर हमें प्रबुद्ध करे, ताकि हम सभी उसकी सुंदरता को जान सकें, अपने दिल की गहराई से अपने परमेश्वर से प्यार कर सकें, और उस प्रेम को व्यक्त कर सकें जो परमेश्वर के लिए अलग-अलग अवस्थाओं में हम सभी में है; परमेश्वर हमें उसके लिए ईमानदार प्यार के अटल हृदय प्रदान करे—इसी की मैं आशा करता हूँ। यह कह कर, मुझे अपने उन भाइयों और बहनों के लिए भी कुछ सहानुभूति महसूस हो रही है जो इस गंदगी के देश में रहते हैं, इसलिए मेरे मन में बड़े लाल अजगर के लिए घृणा विकसित हो गई है। यह परमेश्वर के लिए हमारे प्यार को बाधित करता है और हमारे भविष्य की संभावनाओं के लिए हमारे लालच को फुसलाता है। यह हमें नकारात्मक होने, परमेश्वर का विरोध करने के लिए ललचाता है। यह महान लाल अजगर रहा है जिसने हमें धोखा दिया है, हमें भ्रष्ट किया है, और हमें अब तक तबाह किया है, इस स्थिति तक कि हम अपने हृदयों से परमेश्वर के प्यार को चुकाने में असमर्थ हैं। हमारे दिल में प्रबल प्रेरणा है लेकिन अपने स्वयं के बावजूद, हम सामर्थ्यहीन हैं।

2 हम सभी इसके शिकार हैं। इस कारण से, मैं इसे अपने हृदय से घृणा करता हूँ और मैं इसे नष्ट करने के लिए प्रतीक्षा नहीं कर सकता हूँ। हालाँकि, जब मैं पुनः विचार करता हूँ, तो मुझे लगता है कि यह किसी लाभ का नहीं होगा और यह परमेश्वर के लिए केवल परेशानी लाएगा, इसलिए मैं इन वचनों पर वापस आ जाता हूँ—मैं उसकी इच्छा—परमेश्वर को प्रेम करना—को पूरा करने पर अपना हृदय स्थित करता हूँ। यह वह मार्ग है जो मैं ले रहा हूँ—यही वह मार्ग है जिस पर उनकी रचनाओं में से एक—मुझे—चलना चाहिए। इसी तरह से मुझे अपना जीवन बिताना चाहिए। ये मेरे हृदय से निकले वचन हैं, और मुझे आशा है कि मेरे भाइयों और बहनों को इन वचनों को पढ़ने के बाद कुछ प्रोत्साहन मिलेगा ताकि मेरा हृदय कुछ शांति प्राप्त कर सके। क्योंकि मेरा लक्ष्य परमेश्वर की इच्छा को पूरा करना है और इस तरह से अर्थ और प्रतिभा से भरा जीवन जीना है। इस में, मैं संतुष्टि और आराम से भरे एक हृदय के साथ, बिना किसी पछतावे के मरने में सक्षम हो जाऊँगा। परमेश्वर हमें प्रबुद्ध करे, ताकि हम सभी उसकी सुंदरता को जान सकें, अपने दिल की गहराई से अपने परमेश्वर से प्यार कर सकें, और उस प्रेम को व्यक्त कर सकें जो परमेश्वर के लिए अलग-अलग अवस्थाओं में हम सभी में है; परमेश्वर हमें उसके लिए ईमानदार प्यार के अटल हृदय प्रदान करे।

पिछला: 165 ईमानदार इंसान बनने का संकल्प

अगला: 167 परमेश्वर का प्रेम मेरे साथ है, मुझे किसी का भय नहीं है

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें