166 काश हम जान जायें परमेश्वर की मनोहरता

1 परमेश्वर हमें प्रबुद्ध करे, ताकि हम सभी उसकी सुंदरता को जान सकें, अपने परमेश्वर से प्यार कर सकें, और अलग-अलग अवस्थाओं में हम परमेश्वर के लिए अपने प्रेम को व्यक्त कर सकें; परमेश्वर हमें उसके लिए ईमानदार प्यार के अटल हृदय प्रदान करे—परमेश्वर यही आशा करता है। इस गंदगी के देश में रहते हुए, हम बड़े लाल अजगर के हाथों बुरी तरह से सताए जाते हैं। इस वजह से हमारे अंदर उसके प्रति घृणा पैदा हो गयी है। यह परमेश्वर के लिए हमारे प्यार को बाधित करता है और हमारे भविष्य की संभावनाओं के लिए हमारे लालच को फुसलाता है। यह हमें नकारात्मक होने, परमेश्वर का विरोध करने के लिए ललचाता है। इसने हमें धोखा दिया है, हमें भ्रष्ट किया है और हमें अब तक तबाह किया है, इस स्थिति तक कि हम अपने हृदय से परमेश्वर के प्यार को चुकाने में असमर्थ हैं। हम परमेश्वर से प्रेम करना चाहते हैं लेकिन न चाहते हुए भी, हम सामर्थ्यहीन हैं।

2 हम सभी उसके शिकार हैं। इस कारण से, हम उससे अपने हृदय से घृणा करते हैं और हम केवल प्रतीक्षा ही कर सकते हैं कि परमेश्वर उसे नष्ट कर दे। हमें परमेश्वर की इच्छा को पूरा करने और उसे प्रेम करने पर ध्यान देना चाहिए। हमें इसी मार्ग पर चलना चाहिए। हमें इसी तरह अपना जीवन जीना चाहिए। हमें अपने लक्ष्य के रूप में परमेश्वर की इच्छा की इच्छा को पूरा करना चाहिए और इस तरह एक सार्थक और प्रकाशमय जीवन जीना चाहिए। ऐसा जीवन जी कर हम बिना पछतावे के और पूर्ण संतुष्टि के साथ प्राण त्याग सकेंगे।

पिछला: 165 शाश्वत दाग

अगला: 167 परमेश्वर का प्रेम साथ हो तो, मुझे किसी का भय नहीं

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें