793 ख़्यालों से और कल्पनाओं से परमेश्वर को कभी न जान पाओगे

परमेश्वर को जानना हमारे अनुभव और

कल्पना पर निर्भर नहीं है, निर्भर नहीं है।

उसे परमेश्वर पर, थोपने की जुर्रत ना करना, ना करना।

इंसां का अनुभव, चाहे कितना भी गहरा हो,

मगर उसकी अपनी सीमायें हैं,

वो ना तथ्य है ना कोई, सच्चाई है,

परमेश्वर के, स्वभाव से, भी असंगत है,

परमेश्वर के असल सार से भी भिन्न है, भिन्न है।

धर्मी स्वभाव ही परमेश्वर का, उसका सच्चा सार है,

उसका सच्चा सार है;

उस पर ना इंसां का हुक्म चलता है,

ना वो अपनी किसी रचना-सा है।

वो तो है आख़िर परमेश्वर।

रहे भले वो इंसानों में,

मगर वो अपनी रचना का हिस्सा नहीं है;

उसका स्वभाव बदलेगा, ना उसका सार बदलेगा।

परमेश्वर का ज्ञान चीज़ों को देखने से,

द्रव्य को अलग करने से, इंसान को समझने से आता नहीं।

परमेश्वर का ज्ञान ऐसे साधनों और पथ से मिलता नहीं।

प्रभु का ज्ञान अनुभव और ख़्यालों पर निर्भर नहीं है।

उनकी सीमाएं हैं, वे ना तथ्य हैं,

ना सच्चाई हैं, ना सच्चाई हैं।

धर्मी स्वभाव ही परमेश्वर का, उसका सच्चा सार है,

उसका सच्चा सार है;

उस पर ना इंसां का हुक्म चलता है,

ना वो अपनी किसी रचना-सा है।

वो तो है आख़िर परमेश्वर।

रहे भले वो इंसानों में,

मगर वो अपनी रचना का हिस्सा नहीं है;

उसका स्वभाव बदलेगा, ना उसका सार बदलेगा।

जान पायेगा ना कोई प्रभु को, सिर्फ़ अपनी कल्पना से।

कर लो उसे स्वीकार जो भी मिलता है प्रभु से,

परमेश्वर, को जानने का पथ यही बस यही है:

थोड़ा-थोड़ा करके उसका अनुभव तुम लेते चलो।

वो दिन आएगा जब सच्चाई के लिये

तुम्हारे सहयोग की वजह से,

तुम्हारी भूख-प्यास की वजह से

उसे जानने-समझने के लिये,

परमेश्वर तुम्हें प्रबुद्ध करेगा।

धर्मी स्वभाव ही परमेश्वर का, उसका सच्चा सार है,

उसका सच्चा सार है;

उस पर ना इंसां का हुक्म चलता है,

ना वो अपनी किसी रचना-सा है।

वो तो है आख़िर परमेश्वर।

रहे भले वो इंसानों में,

मगर वो अपनी रचना का हिस्सा नहीं है;

उसका स्वभाव बदलेगा, ना उसका सार बदलेगा।


— 'वचन देह में प्रकट होता है' से रूपांतरित

पिछला: 792 अगर तुम सच में परमेश्वर को जानना चाहते हो

अगला: 794 जो जानते परमेश्वर के शासन को, समर्पित होंगे उसके प्रभुत्व को

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें