185 मैंने देखा है परमेश्वर को

1 मैंने परमेश्वर की आवाज सुनी और मैं उसके सामने लौट आया हूँ। मैंने प्रार्थना में उसका नाम पुकारा, मानो मैं अपनी मां के पास लौट रहा था। परमेश्वर जानता था मेरे दिल का दर्द। वह जानता था मुझे किसकी लालसा थी। परमेश्वर के वचनों ने मेरी प्यासे दिल का सिंचन किया, मैंने उनकी मिठास चखी और उसके परिवार की आत्मीयता को अनुभव किया। परमेश्वर के वचनों के न्याय ने इंसान की भ्रष्टता का सत्य प्रकट किया, और मैंने आखिरकार देखा कि मैं शैतानी स्वभाव से भरा हुआ हूं, और सिर्फ देह के लिए जीता हूँ। मैंने प्रभु में विश्वास किया तो सिर्फ आशीषों के लिए, ख्याति और संपत्ति के लिए। एक इंसान के तौर पर मैंने अपनी चेतना को बहुत वक्त पहले खो दिया। मुझे न्याय के वचनों ने जगाया, और तभी मुझे जीवन में दिशा मिली। मसीह मेरे दिल का प्रीतम है और मैं अपने दिल में चाहता हूँ कि मैं करीब से उसका अनुसरण करूँ।

2 मैं परमेश्वर के न्याय का अनुभव करने से बहुत लाभ पाता हूँ, और उसका हर वचन मेरे दिल को तलवार की तरह चीरता है। मैं, जो इतना घमंडी था, अपना सिर झुकाता हूँ, और इतना स्वार्थी और मानवता रहित होने के होने के लिए खुद से नफरत करता हूँ। परमेश्वर के न्याय के कारण ही मैं बदल गया हूँ। मुझे शुद्ध करने और बचाने के लिए मैं परमेश्वर के न्याय का आभारी हूँ। भले ही उसके वचन कठोर हैं, वे सभी मनुष्य को बचाने के लिए बोले गए हैं। उसका दिल बहुत दयालु और भला है। उसका हर वचन उसके धार्मिक स्वभाव को जताता है और मेरे दिल में श्रद्धा जगाता है। मेरा भ्रष्ट स्वभाव साफ हो गया है और मैं परमेश्वर के साथ आमने-सामने आ गया हूँ। मैं हर दिन उसके वचनों का स्वाद लेता हूँ; मैं उसके सामने जीता हूँ, और मेरा दिल खुशी और शांति से भरा हुआ है। परमेश्वर का प्रेम बहुत सच्चा, बहुत असली है; वह इंसान की प्रशंसा का पात्र है। मैं परमेश्वर से प्यार करना और उसकी गवाही देना चाहता हूँ, और मैं हमेशा उसके साथ रहना चाहता हूँ।

पिछला: 184 राज्य

अगला: 186 मैं देखता हूँ कि परमेश्वर का प्रेम कितना सच्चा है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें