407 क्या वर्षों के विश्वास से तुमने कुछ भी हासिल किया है?

तुम्हें यह मालूम होना चाहिए कि मेरे कार्य का असल उद्देश्य क्या है और मैं किसके लिए यह कार्य करता हूँ। तुम्हारे प्रेम में अच्छाई है या बुराई? क्या तुम वाकई मुझे वैसे ही जानते हो जैसे दाऊद और मूसा ने जाना था? क्या तुम वास्तव में मेरी वैसे ही सेवा करते हो जैसे इब्राहिम ने की? यह सच है कि मेरे द्वारा तुमको पूर्ण बनाया जा रहा है, लेकिन तुम्हें यह जानना चाहिए तुम किसका प्रतिनिधित्व करोगे और तुम किसके जैसा परिणाम लेना चाहोगे। अपने जीवन में, क्या तुमने मेरे कार्य का अनुभव लेकर एक आनन्दमय और प्रचुर फ़सल प्राप्त की है? क्या यह भरपूर और फलदायी है? तुम्हें आत्म-मंथन करना चाहिए। कई वर्षों से तुमने मेरे लिए काम किया है, लेकिन क्या तुमने कभी कुछ हासिल किया? क्या तुम कुछ बदले या तुमने कुछ प्राप्त किया? कठिनाई के अपने अनुभव के बदले, क्या तुम पतरस की तरह बन गए हो जिसे सलीब पर चढ़ाया गया था या पौलुस की तरह जो कि मार गिराया गया था और जिसने एक महान प्रकाश को प्राप्त किया था? तुम्हें इनके बारे में अवगत होना चाहिए।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'मनुष्य का सार और उसकी पहचान' से रूपांतरित

पिछला: 406 तुम्हारा विश्वास वास्तव में कैसा है?

अगला: 408 क्या तुमने अपनी आस्था में सचमुच अपना जीवन समर्पित किया है?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें