971 मनुष्य परमेश्वर के संरक्षण में विकसित होता है

1 परमेश्वर मनुष्यों को सुरक्षा की गारंटी देने, और यह गारंटी देने कि वे शैतान के द्वारा निगले नहीं जाएँगे के अतिरिक्त बहुत कुछ करता है; वह किसी को चुनने और उन्हें बचाने की तैयारी में बहुत से कार्य करता है। हम अब देख सकते हैं कि जो कुछ भी परमेश्वर करता है, जिसे वह अत्यंत परिश्रम से मनुष्य के लिए व्यवस्थित करता है वह सब बेदाग होता है। परमेश्वर प्रत्येक प्राणी के लिए जो कुछ करता है, वह सन्देह से परे होता है; वह हर किसी की हाथ से अगुवाई करता है, हर क्षण तुम्हारी देखरेख करता है और उसने तुम्हारा साथ कभी नहीं छोड़ा है। जब लोग इस प्रकार के वातावरण में पनपते हैं और इस प्रकार की पृष्ठभूमि में पनपते हैं, तो क्या हम कह सकते हैं कि लोग वास्तव में परमेश्वर की हथेली में पनपते हैं? (हाँ।) तो फिर परमेश्वर ने धरती पर किया क्या है? (वह मानवजाति की देख-रेख रखता है।) जो कुछ परमेश्वर करता है उसके पीछे का महान विचार एवं देखभाल सवालों से परे है।

2 अपने लम्बे जीवनभर में, मूलत: प्रत्येक व्यक्ति ने अनेक ख़तरनाक परिस्थितियों का सामना किया है और वह अनेक प्रलोभनों से होकर गुज़र चुका है। ऐसा इसलिए है क्योंकि शैतान बिलकुल तुम्हारे बगल में है, उसकी आँखें लगातार तुम्हारे ऊपर जमी रहती हैं। उसे यह अच्छा लगता है जब तुम पर आपदा आती है, जब तुम पर विपदाएँ पड़ती हैं, जब तुम्हारे लिए कुछ भी सही नहीं होता है, और उसे अच्छा लगता है जब तुम शैतान के जाल में फँस जाते हो। जहाँ तक परमेश्वर की बात है, वह लगातार तुम्हारी सुरक्षा कर रहा है, एक के बाद एक दुर्भाग्य से और एक के बाद एक आपदा से तुम्हें बचा रहा है। इसीलिए मैं कहता हूँ कि जो कुछ मनुष्य के पास है—शान्ति और आनन्द, आशीषें एवं व्यक्तिगत सुरक्षा—सब-कुछ वास्तव में परमेश्वर के नियंत्रण के अधीन है, और वह हर प्राणी के भाग्य का मार्गदर्शन एवं निर्धारण करता है।

3 क्या ऐसा नहीं है? परमेश्वर व्यर्थ में नहीं बोलता है, न ही वह घमंड से ऊँचाई पर खड़ा होता है और न ही वह मनुष्य को मूर्ख बनाकर काम चलाता है। इसके बजाय वह ईमानदारी एवं खामोशी से उन चीज़ों को करता है जो उसे स्वयं करने की आवश्यकता है। ये चीज़ें मनुष्य के लिए आशीषें, शान्ति एवं आनन्द लाती हैं। ये मनुष्य को शांति एवं प्रसन्नता से परमेश्वर की दृष्टि के सामने और उसके परिवार में लाती हैं; और उचित तर्क और विचार के साथ वे परमेश्वर के सामने रहते हैं और परमेश्वर के उद्धार को स्वीकारते हैं। परमेश्वर में कोई छल नहीं है, और कोई झूठ नहीं है। परमेश्वर विश्वासयोग्य है और जो कुछ वह करता है वह वास्तविक होता है। वही एकमात्र है जिस पर लोग भरोसा कर सकते हैं, एकमात्र परमेश्वर है जिसे लोग अपना जीवन एवं अपना सर्वस्व सौंप सकते हैं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है VI" से रूपांतरित

पिछला: 284 मनुष्य की पीड़ा कैसे उत्पन्न होती है?

अगला: 283 इन्सान का जीवन पूरी तरह है परमेश्वर की प्रभुता में

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें