852 परमेश्वर मानता है इंसान को अपना सबसे प्रिय

1

परमेश्वर ने इंसान को बनाया।

चाहे इंसान हो गया दूषित या चले उसके पीछे,

परमेश्वर के लिए इंसान है दुलारा,

या इंसान के शब्दों में परमेश्वर का सबसे प्यारा प्रियजन।

इंसान नहीं उसका खिलौना।

2

वो है रचयिता और इंसान है उसकी रचना।

लगता है पद है अलग,

पर इंसान के लिए जो करता है परमेश्वर वो है उनके रिश्ते से बहुत बढ़कर।

इंसान से है प्रेम परमेश्वर को और है उसका ख़्याल,

दिखाता है वो इंसान को अपनी फ़िक्र।

बिन थके वो देता है इंसान को, कभी नहीं लगता उसे ये है अतिरिक्त कार्य,

कभी नहीं लगता उसे चाहिए है मिलना श्रेय।

3

कभी नहीं लगता उसे कि इंसान को बचाना,

उसकी पूर्ति करना और उसे सब कुछ देना है कोई बहुत बड़ा योगदान।

वो बस अपने तरीके से, अपने सार से, अपने स्वरूप से,

इंसान को चुपचाप, ख़ामोशी से करता है पूर्ति।

चाहे जितना इंसान पाए उससे, परमेश्वर माँगता नहीं है श्रेय।

वो होता है उसके सार से तय।

यही है सही मायने में उसके स्वभाव की अभिव्यक्ति।

परमेश्वर ने इंसान को बनाया।

चाहे इंसान हो गया दूषित या चले उसके पीछे,

परमेश्वर के लिए इंसान है दुलारा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I' से रूपांतरित

पिछला: 851 कितना अहम है प्यार परमेश्वर का इंसान के लिये

अगला: 853 परमेश्वर सबकी पूर्ण देखभाल करता है

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें