461 परमेश्वर अपनी उम्मीद रखता है पूरी तरह इंसान पर

1

प्रारंभ से लेकर आजतक, बस इंसान ही कर पाया बात परमेश्वर से।

उसके बनाए गए सभी जीवित प्राणियों के बीच,

बस इंसान ही कर पाता है बात परमेश्वर से।

इंसान सुनता है कानों से और देखता है आँखों से,

सोच और भाषा के साथ है उसके पास इच्छा की आज़ादी।

इंसान के पास हैं सभी क्षमताएं ज़रूरी

परमेश्वर को सुनने के लिए, उसकी इच्छा समझने के लिए,

परमेश्वर का आदेश स्वीकारने के लिए,

परमेश्वर के दिए आदेश को अपनाने के लिए।

इसलिए परमेश्वर रखता है अपनी पूरी उम्मीद इंसान पर,

पूरी उम्मीद इंसान पर।

वो चाहता है इंसान को बनाना अपना साथी,

जो उसके साथ एक ही दिल और दिमाग़ का रहे,

जो उसके साथ मिलकर चलता रहे।

2

जबसे परमेश्वर ने किया शुरू अपना प्रबंधन,

वो करता रहा इंतज़ार कि कब इंसान दे अपना दिल,

दे उसे अपना दिल हर वक़्त,

ताकि वो कर सके शुद्ध और तैयार उसे,

ताकि इंसान करे उसे संतुष्ट, करे परमेश्वर उसे प्रेम,

ताकि इंसान भयभीत हो परमेश्वर से और बुराई से हो दूर।

परमेश्वर करता रहा उम्मीद और इंतज़ार

इस परिणाम का इंतज़ार हर वक़्त,

ताकि इंसान करे उसे संतुष्ट, करे परमेश्वर उसे प्रेम,

ताकि इंसान भयभीत हो परमेश्वर से और बुराई से हो दूर।

परमेश्वर करता रहा उम्मीद और इंतज़ार

इस परिणाम का इंतज़ार हर वक़्त।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II' से रूपांतरित

पिछला: 460 पवित्र आत्मा के काम को मानो तो तुम चलोगे पूर्णता के पथ पर

अगला: 462 परमेश्वर उत्सुकतापूर्वक उन्हें चाहता है जो उसकी इच्छा पूरी कर सकें

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें