112 परमेश्वर आरम्भ है और अंत भी

1

ईश्वर देहधारी क्यों हुआ है? उसका उद्देश्य क्या है?

पुराने युग के अंत और नए युग के आरम्भ के लिए।

आदि और अंत परमेश्वर है।

वो खुद शुरू काम करता और पुराने युग का अंत।

यह साबित करे, शैतान और जहान पे जीत ईश्वर की हुई है।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

हर बार वह देहधारी बन करे कार्य, नया शुरू होता युद्ध।

बिन ईश्वर के नए कार्य के, पुराना अंत न हो।

और यह सत्य कि पुराना कार्य अभी ख़त्म नहीं हुआ,

दर्शाता है कि शैतान से युद्ध अब तक पूरा न हुआ।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

2

जब स्वयं परमेश्वर आये और नया कार्य करे,

तब मानव शैतान के नियंत्रण से आज़ाद होगा।

यदि ईश्वर न आता करने कार्य, न होती नई शुरुआत और नई ज़िन्दगी।

जीता पुराने युग में मानव प्रभाव में शैतान के।

हर युग जिसकी अगुवाई करे ईश्वर, हो मानव का एक भाग आज़ाद।

उनको बढ़ाये ईश्वर का कार्य नए युग की ओर।

हर युग जिसकी अगुवाई करे ईश्वर, हो मानव का एक भाग आज़ाद।

उसकी जीत उन सबकी है जो उसका अनुसरण करते हैं।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

आदि और अंत परमेश्वर ही है। बोये वही, वही काटे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'देहधारण का रहस्य (1)' से रूपांतरित

पिछला: 111 परमेश्वर छ: हज़ार साल की प्रबंधन योजना का शासक है

अगला: 113 इंसान के लिए परमेश्वर के प्रबंध के मायने

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें