293 परमेश्वर चाहता है इंसानियत जीती रहे

1

जब इंसानियत मैल से भरी थी, कुछ हद तक नाफ़र्मानी करती थी,

तो अपने उसूलों और सार की ख़ातिर परमेश्वर को उसे तबाह करना पड़ा।

इंसानों के विद्रोह की वजह से परमेश्वर को उनसे नफ़रत थी।

मगर उनकी तबाही के बावजूद, उसका दिल ना बदला, उसकी दया बनी रही।

2

परमेश्वर को इंसान से हमदर्दी थी,

वो हर तरह से उसका उद्धार करना चाहता था।

मगर परमेश्वर के उद्धार को नकारकर, इंसान नाफ़र्मानी करता रहा।

परमेश्वर ने हर तरह से पुकारा, ख़बरदार किया, मदद की, पोषण दिया,

मगर इंसान ने इसे ना समझा, और ना सराहा।

3

इस तरह परमेश्वर ने बहुत बर्दाश्त किया,

दर्द में, इंसान के मुड़ने का इंतज़ार किया।

अपनी हद पे पहुँचकर, जो करना था, वही किया।

उस पल से, जब परमेश्वर ने तबाही की योजना बनाई,

योजना की शुरुआत के लम्हे तक, ये वक्त था इंसान के पलटने का।

ये आख़िरी मौका था, जो परमेश्वर ने इन्सान को दिया।

ये आख़िरी मौका था, जो परमेश्वर ने इन्सान को दिया,

इन्सान को दिया, इन्सान को दिया।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर I' से रूपांतरित

पिछला: 292 लोग परमेश्वर के उद्धार को नहीं जानते

अगला: 294 परमेश्वर की दया ने मनुष्य को आज तक जीवित रखा है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें