237 परमेश्वर के पदचिह्नों का अनुसरण करने के लिए धार्मिक अवधारणाओं को त्याग दो

1

ईश्वर को अपनी आस्था में, उसके वचनों, कामों से

जानने का प्रयास करो, कोई भ्रांति न रखो।

अगर हर चीज़ से पहले, ईश्वर को जानना चाहो,

तो उसके काम को जानो। यही आधार है।

जिन भ्रांतियों में ईश-वचनों की साफ़ समझ नहीं,

वो इंसानी धारणाएँ हैं। वो भटकाव हैं, गलत हैं।

ईश्वर ने पहले जैसे चाहे काम किया हो,

उसके आज के काम की अहमियत समझो।

तब अपनी धारणाएँ छोड़ दोगे तुम; ईश्वर का आज्ञापालन कर पाओगे।

उसके काम, वचनों का आज्ञापालन, उसके पदचिह्नों पर चल पाओगे।

इस तरह तुम ईश्वर के सच्चे आज्ञाकारी बनोगे।

2

धार्मिक लोग आज के ईश-वचनों का मिलान

पहले के स्वीकृत ईश-वचनों से करते हैं।

अगर पुराने से चिपके रहकर आज के ईश्वर की सेवा करोगे,

तुम्हारी सेवा बाधा डालेगी, अभ्यास पुराना होकर रस्म बन जाएगा।

धार्मिक धारणाओं के साथ कोई,

पवित्र आत्मा के काम का अनुसरण न कर सके,

वो धीरे-धीरे पीछे छूट जाए,

क्योंकि वो चीज़ें उसे आत्मतुष्ट, अहंकारी बनाएँ।

ईश्वर ने पहले जैसे चाहे काम किया हो,

उसके आज के काम की अहमियत समझो।

तब अपनी धारणाएँ छोड़ दोगे तुम; ईश्वर का आज्ञापालन कर पाओगे।

उसके काम, वचनों का आज्ञापालन, उसके पदचिह्नों पर चल पाओगे।

इस तरह तुम ईश्वर के सच्चे आज्ञाकारी बनोगे।

3

ईश्वर पहले के वचनों, कामों को याद न करे।

अगर ईश्वर पुराने को छोड़े, तो क्या तुम अपनी धारणाएँ न छोड़ सको?

अगर तुम पुराने ईश-वचनों से चिपके रहो,

तो क्या साबित होता इससे, तुम जानो ईश-कार्य को?

अगर तुम पवित्र आत्मा की नई रोशनी को न स्वीकार सको,

अगर अतीत से चिपके रहो, तो तुम ईश-कदमों पर नहीं चल रहे।

अगर तुम ऐसा करते हो, तो ईश-विरोधी हो।

4

अगर इंसान अपनी धार्मिक धारणाएँ छोड़ सके,

तो वो अपने दिमाग से आज के ईश-वचनों, काम को नहीं मापेगा।

भले ही आज का ईश-कार्य पिछले से अलग हो,

तुम पुराने विचारों को छोड़, आज के ईश-कार्य का पालन कर सकते हो।

ईश्वर ने पहले जैसे चाहे काम किया हो,

उसके आज के काम की अहमियत समझो।

तब अपनी धारणाएँ छोड़ दोगे तुम; ईश्वर का आज्ञापालन कर पाओगे।

उसके काम, वचनों का आज्ञापालन, उसके पदचिह्नों पर चल पाओगे।

इस तरह तुम ईश्वर के सच्चे आज्ञाकारी बनोगे, आज्ञाकारी बनोगे।

उसके पदचिह्नों पर चल पाओगे।

इस तरह तुम ईश्वर के सच्चे आज्ञाकारी बनोगे।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'जो परमेश्वर के आज के कार्य को जानते हैं केवल वे ही परमेश्वर की सेवा कर सकते हैं' से रूपांतरित

पिछला: 236 क्या पवित्रात्मा के नए कार्य को स्वीकार न करने वाले परमेश्वर के प्रकटन को देख सकते हैं?

अगला: 238 इंसान "उद्धारकर्ता यीशु" को स्वर्ग से उतरते कैसे देख सकता है?

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें