236 क्या पवित्रात्मा के नए कार्य को स्वीकार न करने वाले परमेश्वर के प्रकटन को देख सकते हैं?

प्रबंधन कार्य की समाप्ति तक,

ईश्वर का काम कभी रुका नहीं, वो रहा है व्यस्त हमेशा ही।

ईश्वर न रुका कभी, लेकिन इंसान है अलग।

1

आत्मा का ज़रा-सा काम मिलते ही

सोचता है वो कि ये कभी बदलेगा नहीं।

ज़रा-सा ज्ञान पाते ही

नए काम को जाते ईश्वर के नक्शेकदम पर वो चलता नहीं।

ईश्वर के थोड़े-से काम को जानकर इंसान

सोचे, ईश्वर रहेगा हमेशा एक सा ही।

काम के एक चरण के बारे में हो निश्चित

वो नए काम को न माने, चाहे ऐलान करे कोई।

ये लोग स्वीकार नहीं सकते नया काम; ये हैं लकीर के फकीर।

नयी चीज़ें न अपना सकें। ईश्वर में विश्वास करके भी वे नकारें उसे।

जो चलें मेमने के नक्शेकदम पर

बिलकुल अंत तक, पा सकें अंतिम आशीष।

जो अंत तक पहुँचने के पहले भटक जाएँ रास्ता

फिर भी सोचें कि सब कुछ पा लिया

वे ईश्वर के प्रकटन को देखने के योग्य नहीं।

2

बेवजह वे ईश्वर के काम को रोकें,

फिर भी है उन्हें यकीं, ईश्वर ले जाएगा स्वर्ग उन्हें

बाइबल का पालन करते वे, लेकिन उनके वचन-कर्म हैं गंदे,

क्योंकि वे देते धोखा, करते बुरे काम, लड़ते आत्मा के कार्य से।

पवित्रात्मा के काम का पालन न कर पाते वे।

पुराने काम से चिपके रहते हैं।

वे हैं निष्ठाहीन, बन जाते हैं ईश-विरोधी और वे लोग सज़ा पाएंगे।

क्या उनसे दयनीय है कोई?

जो चलें मेमने के नक्शेकदम पर

बिलकुल अंत तक, पा सकें अंतिम आशीष।

जो अंत तक पहुँचने के पहले भटक जाएँ रास्ता

फिर भी सोचें कि सब कुछ पा लिया

वे ईश्वर के प्रकटन को देखने के योग्य नहीं।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का अभ्यास' से रूपांतरित

पिछला: 235 मनुष्य की सोच बहुत रूढ़िवादी है

अगला: 237 परमेश्वर के पदचिह्नों का अनुसरण करने के लिए धार्मिक अवधारणाओं को त्याग दो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें