60 अंत के समय का परमेश्वर का धार्मिक न्याय मनुष्य को वर्गीकृत करता है

1

युग-सामापन के अपने अंतिम कार्य में,

ईश्वर का स्वभाव ताड़ना देना,

अधार्मिक को प्रकट करना और

सबके सामने लोगों का न्याय करना है,

सच्चे ईश-प्रेमियों को पूर्ण बनाना है।

युग का अंत कर सके ये स्वभाव।

आ चुके हैं अंत के दिन, सारी सृष्टि वर्गीकृत की जाएगी

उसकी प्रकृति और किस्म के अनुसार।

इसी पल दिखाए ईश्वर इंसान को उसकी नियति और मंज़िल।

इंसान की अवज्ञा और अधार्मिकता

उजागर न की जा सके बिना न्याय के।

ताड़ना और न्याय से ही सृष्टि की नियति दिखेगी,

इंसान का असली रंग प्रकट किया जाएगा।

बुरे के साथ बुरा, अच्छे के साथ अच्छा होगा।

बुरे को दंडित किया जाएगा, अच्छे को इनाम दिया जाएगा।

इंसान को किस्म के अनुसार बाँटा जाएगा,

वो ईश्वर के प्रभुत्व में आएगा।

2

इंसान की भ्रष्टता अपने चरम पर है, उसकी अवज्ञा भयंकर है।

ईश्वर का धार्मिक स्वभाव, ताड़ना और न्याय ही,

पूरी तरह बदल सके इंसान को,

दुष्ट को उजागर कर दंडित करे अधार्मिक को।

ऐसे स्वभाव में निहित हैं युग के मायने।

हर नए युग के कार्य के लिए

ईश्वर अपना स्वभाव प्रकट करता है,

वो इसे यूँ ही या बेमायने प्रकट नहीं करता है।

ताड़ना और न्याय से ही सृष्टि की नियति दिखेगी,

इंसान का असली रंग प्रकट किया जाएगा।

बुरे के साथ बुरा, अच्छे के साथ अच्छा होगा।

बुरे को दंडित किया जाएगा, अच्छे को इनाम दिया जाएगा।

इंसान को किस्म के अनुसार बाँटा जाएगा,

वो ईश्वर के प्रभुत्व में आएगा।

3

अगर इंसान की नियति दिखाने वाले अंत के दिनों में भी,

ईश्वर करुणा और प्रेम बरसाये, न्याय न करे, पर क्षमा करे,

इंसान चाहे कितने भी पाप करे,

तो कब समाप्त होगी ईश्वर की प्रबंधन योजना,

कब होगा इंसान का नियति से सामना?

ताड़ना और न्याय से ही सृष्टि की नियति दिखेगी,

इंसान का असली रंग प्रकट किया जाएगा।

बुरे के साथ बुरा, अच्छे के साथ अच्छा होगा।

बुरे को दंडित किया जाएगा, अच्छे को इनाम दिया जाएगा।

इंसान को किस्म के अनुसार बाँटा जाएगा,

वो ईश्वर के प्रभुत्व में आएगा।

4

धार्मिक न्याय ही इंसान को किस्म के अनुसार बांट सके,

और एकदम नए क्षेत्र में ला सके,

इस तरह ईश्वर का धार्मिक स्वभाव इस युग का अंत करेगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर के कार्य का दर्शन (3)' से रूपांतरित

पिछला: 59 न्याय और ताड़ना का कार्य छुटकारे के काम से गहरा है

अगला: 61 अंत के दिनों में परमेश्वर के न्याय के कार्य के मायने

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें