244 परमेश्वर की अवहेलना करने से सिर्फ़ दंड मिल सकता है

1

इंसान को बचाने की ख़ातिर बनाए गये, अपने प्रबंधन की पूर्ति के लिए

ईश्वर ने हज़ारों साल काम किया है, वो अनेक युगों से गुज़रा है।

वो देखना न चाहे विरोध उनका जिन्हें वो बचाए,

न उनसे धोखा पाना चाहे जिन्होंने कभी उसके अनुग्रह का आनंद लिया।

ईश-विरोध का नतीजा सज़ा है। कोई इससे बच न सके।

ये ईश्वर का स्वभाव है, दुष्टों से निपटने का सही तरीका।

ईशनिंदा, ईश्वर से धोखा करने से मिले सज़ा।

ऐसा पहले भी था। अब भी है। आगे भी होगा। यही शाश्वत सत्य है।

2

वो ज़्यादा लोगों को बचाने के लिए करे।

उसके मन-मुताबिक बनकर, उसकी इच्छा को समझें,

ताकि उसके राज्य में आकर, उसके वादे का आनंद लें।

उसे अपने परिवार में अवज्ञा से सबसे ज़्यादा नफरत है।

अपने विरोधियों को सज़ा और शाप देने के अलावा,

ईश्वर के पास और चारा ही क्या है?

उसकी अवज्ञा करने वालों के ख़िलाफ इससे बेहतर रवैया और क्या हो सके?

उसकी सज़ा को मानने के अलावा ऐसे लोगों के पास और विकल्प ही क्या है?

ईश-विरोध का नतीजा सज़ा है। कोई इससे बच न सके।

ये ईश्वर का स्वभाव है, दुष्टों से निपटने का सही तरीका।

ईशनिंदा, ईश्वर से धोखा करने से मिले सज़ा।

ऐसा पहले भी था। अब भी है। आगे भी होगा। यही शाश्वत सत्य है।

— "सर्वशक्तिमान परमेश्‍वर के विरोध हेतु दण्‍ड के विशिष्ट उदाहरण" के 'अंतभाषण' से रूपांतरित

पिछला: 243 अंत के दिनों के मसीह को अस्वीकारने के परिणाम

अगला: 245 परमेश्वर आशा करता है कि लोग फरीसी न बनें

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें