243 अंत के दिनों के मसीह को अस्वीकारने के परिणाम

अंत के दिनों का मसीह लाये जीवन,

स्थायी और शाश्वत मार्ग सत्य का—

वो पथ जिससे सभी पाएँ जीवन,

जिससे ईश्वर को जानेगा इंसान,

स्वीकारा जाएगा उसके द्वारा।

1

अंत के दिनों के मसीह ने दिया जो

जीवन-मार्ग, उसे अगर न खोजो तुम,

तो कभी न मिलेगी स्वीकृति यीशु की,

न मिलेगा प्रवेश स्वर्ग में,

क्योंकि तुम हो कठपुतली, कैदी इतिहास के।

जो हैं नियमों के काबू में, इतिहास के बंधन में,

वो न पाएंगे जीवन कभी,

न पाएंगे अनंत जीवन का मार्ग;

उनके पास होगा बस गंदा पानी

जिससे चिपके हैं वे हजारों सालों से,

सिंहासन से बहने वाला जीवंत जल नहीं।

अंत के दिनों का मसीह लाये जीवन,

स्थायी और शाश्वत मार्ग सत्य का—

वो पथ जिससे सभी पाएँ जीवन,

जिससे ईश्वर को जानेगा इंसान,

स्वीकारा जाएगा उसके द्वारा।

2

जिनमें जीवन जल नहीं, वे होंगे लाश

शैतान के खिलौने और पुत्र नरक के।

तो कैसे वे देख सकें परमेश्वर को?

अगर तुम ठहरे रहो, अतीत से चिपके रहो,

जो है उसे बदलने की कोशिश न करो,

तो क्या तुम सदा ईश-विरोधी न होगे?

अंत के दिनों का मसीह लाये जीवन,

स्थायी और शाश्वत मार्ग सत्य का—

वो पथ जिससे सभी पाएँ जीवन,

जिससे ईश्वर को जानेगा इंसान,

स्वीकारा जाएगा उसके द्वारा।

3

ईश-कार्य के कदम हैं विशाल, शक्तिशाली,

जैसे उमड़ती लहरें और गरजते आसमान,

फिर भी तुम मौत का इंतज़ार करते।

तुम्हें मेमने का अनुयायी कैसे माना जा सके?

कैसे तुम कहते कि तुम्हारा ईश्वर वो है

जो सदा रहता नया, न होता कभी पुराना?

कैसे पुराने शब्द तुम्हें ला सकें नए युग में,

या ईश-कार्य खोजने और स्वर्ग

जाने में तुम्हारी अगुआई कर सकें?

वे शब्द देते सुकून पल भर का,

वे जीवनदायी सत्य नहीं, न ले जाते पूर्णता तक।

क्या ये बात चिंतन योग्य नहीं?

क्या तुम नहीं देख पाते भीतर के रहस्यों को?

क्या तुम स्वर्ग जाने का रास्ता खुद बना सकते,

कि अपने बल पर ईश्वर से मिल सको?

देखो कि अब कौन काम कर रहा,

बचा रहा अंत के दिनों में इंसान को।

वरना सत्य न पाओगे, न पाओगे जीवन कभी।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'केवल अंत के दिनों का मसीह ही मनुष्य को अनंत जीवन का मार्ग दे सकता है' से रूपांतरित

पिछला: 242 अंतिम दिनों के मसीह को अस्वीकार करना पवित्र आत्मा की निंदा करना है

अगला: 244 परमेश्वर की अवहेलना करने से सिर्फ़ दंड मिल सकता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें