114 परमेश्वर मानव के सृजन के अर्थ को पुर्स्थापित करेगा

I

परमेश्वर ने मानवजाति का सृजन किया,

उन्हें पृथ्वी पर स्थान दिया,

और वर्तमान तक पहुंचने की राह दिखाई।

उसने खुद की आहुति दे कर मनुष्य को बचाया

और अंत में अपनी जीत कायम करके

उसे मनुष्य को पुनःस्थापित करना पड़ेगा।

उसे मनुष्य को पुनःस्थापित करना पड़ेगा।

प्रारम्भ से ही उसने इसी कार्य में खुद कोसंलग्नकिया।

प्रारम्भ से ही उसने इसी कार्य में खुद को संलग्न किया।

वह अपने राज्य का स्थापन करेगा,

वह अपने राज्य का स्थापन करेगा,

पृथ्वी और मानव की स्थिति पर अपना अधिकार पुनःस्थापित करेगा।

सारी सृष्टि पर अपना अधिकार पुनःस्थापित करेगा।


II

शैतान से होके दूषित, मानव ने अपना दिल खोया,

अपना धर्मभीरू दिल खोया।

और उसने अपना वह प्रकार्य खोया

जो परमेश्वर के हर सृजन से आरम्भ से अपेक्षित है।

वह शैतान के अधिकार क्षेत्र में रहकर,

प्रभु का शत्रु बन चुका है।

परमेश्वर ने मानव की आज्ञाकारिता और भय को खोया,

और अब उसका काम मनुष्यों के बीच नहीं हो सकता।नहीं हो सकता।

वह अपने राज्य का स्थापन करेगा,

वह अपने राज्य का स्थापन करेगा,

पृथ्वी और मानव की स्थिति पर अपना अधिकार पुनःस्थापित करेगा।

सारी सृष्टि पर अपना अधिकार पुनःस्थापित करेगा।


III

परमेश्वर ने मनुष्य को बनाया,

मानव का कर्तव्य है उसकी आराधना करना।

पर मानव ने प्रभु से मुँह मोड़ के, की शैतान की उपासना।

पर मानव ने प्रभु से मुँह मोड़ के, की शैतान की उपासना।

शैतान बन गया आराध्य प्रतिमा,

इंसान के दिल में परमेश्वर ने अपना आसन खोया।

अर्थात मनुष्य ने अपनी सृष्टि का मतलब खोया।

इस मतलब को पुनःप्राप्त करने,

मानव को अपनी पूर्व-स्थिति में वापस जाना होगा।

परमेश्वर को मानव कोअपनेदुराचरण से मुक्ति दिलानी होगी।

परमेश्वर को मानव को अपने दुराचरण से मुक्ति दिलानी होगी।

वह अपने राज्य का स्थापन करेगा,

वह अपने राज्य का स्थापन करेगा,

पृथ्वी और मानव की स्थिति पर अपना अधिकार पुनःस्थापित करेगा।

सारी सृष्टि पर अपना अधिकार पुनःस्थापित करेगा।


IV

शैतान से मानव को वापस लाने के लिए

परमेश्वर को उसे पाप से बचाना ही होगा।

तब जाके वह धीरे धीरे

मनुष्य की प्राथमिक भूमिका पुनःस्थापित कर पायेगा।

और अंत में अपना राज्य पुनःस्थापित करेगा।

सारे आज्ञालंघनकारियों का विनाश होगा।

ताकि मनुष्य परमेश्वर की बेहतर तरह से भक्ति कर सके,

इस पृथ्वी पर बेहतर जीवन जी सके।

ताकि मनुष्य परमेश्वर की बेहतरतरह से भक्ति कर सके,

इस पृथ्वी पर बेहतर जीवन जी सके,

और इस पृथ्वी पर एक बेहतर जीवन जी सके,

और इस पृथ्वी पर एक बेहतर जीवन जी सके।


"वचन देह में प्रकट होता है" से

पिछला: 113 इंसान के लिए परमेश्वर के प्रबंध के मायने

अगला: 115 परमेश्वर का प्रबंधन हमेशा आगे बढ़ता रहता है

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें