350 भ्रष्ट इंसान परमेश्वर का प्रतिनिधित्व नहीं कर सकता

1

सभी कार्य और कर्म शैतान के प्रकट होते इंसान में।

सभी कार्य और कर्म इंसान के

शैतान की अभिव्यक्ति हैं।

वे ईश्वर का प्रतिनिधित्व न कर सकें।

इंसान तो शैतान का मूर्त रूप है।

उसका स्वभाव ईश-स्वभाव का

प्रतिनिधित्व न कर सके।


कुछ लोगों के चरित्र अच्छे होते;

ईश्वर ऐसे लोगों द्वारा काम कर सके।

भले ही पवित्रात्मा उनकी अगुआई करे,

लेकिन उन पर किया गया ईश-कार्य

पहले से अंदर मौजूद चीज़ों के

विस्तार से ज़्यादा कुछ नहीं।

ईश्वर का सीधे प्रतिनिधित्व कोई न करे:

चाहे हों वे पहले के नबी

या वे जिनका ईश्वर इस्तेमाल करे।


यीशु की मिसाल ये साबित करने को काफी है

कि पाप-युक्त इंसान ईश-प्रतिनिधि न हो सके।

इंसान के पाप शैतान के प्रतिनिधि हैं।

पाप ईश्वर को न दर्शाए; ईश्वर तो निष्पाप है।

इंसान में पवित्रात्मा का कार्य भी

आत्मा द्वारा निर्देशित भर है,

ईश्वर की ओर से इंसान द्वारा किया कार्य नहीं।

इंसान का पाप या स्वभाव ईश-प्रतिनिधि नहीं।


2

ईश्वर से आने वाली सभी चीज़ें सकारात्मक हैं।

लेकिन इंसान का स्वभाव शैतान द्वारा संसाधित है,

वो ईश-प्रतिनिधि नहीं हो सकता।

केवल देहधारी ईश्वर का प्रेम,

कष्ट सहने का उसका संकल्प, धार्मिकता,

समर्पण, विनम्रता और छिपाव

सीधे ईश्वर के प्रतिनिधि हो सकें।


इसका कारण है ये कि जब वो आया,

तो उसमें पापमय प्रकृति नहीं थी;

वो सीधे ईश्वर से आया,

शैतान द्वारा संसाधित नहीं हुआ।

यीशु ने बस पापी देह को धारण किया,

वो पाप का प्रतिनिधित्व न करे;

सलीब चढ़ने के द्वारा काम खत्म करने से पहले के

उसके काम, कर्म, और वचन

सभी सीधे ईश्वर का प्रतिनिधित्व करें।


यीशु की मिसाल ये साबित करने को काफी है

कि पाप-युक्त इंसान ईश-प्रतिनिधि न हो सके।

इंसान के पाप शैतान के प्रतिनिधि हैं।

पाप ईश्वर को न दर्शाए; ईश्वर तो निष्पाप है।

इंसान में पवित्रात्मा का कार्य भी

आत्मा द्वारा निर्देशित भर है,

ईश्वर की ओर से इंसान द्वारा किया कार्य नहीं।

इंसान का पाप या स्वभाव ईश-प्रतिनिधि नहीं।


—वचन, खंड 1, परमेश्वर का प्रकटन और कार्य, भ्रष्ट मनुष्य परमेश्वर का प्रतिनिधित्व करने में अक्षम है से रूपांतरित

पिछला: 349 यह शैतान की विशिष्ट छवि है

अगला: 351 बहुत कम लोग हैं परमेश्वर के अनुरूप

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

परमेश्वर का प्रकटन और कार्य परमेश्वर को जानने के बारे में अंत के दिनों के मसीह के प्रवचन सत्य के अनुसरण के बारे में I न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सत्य वास्तविकताएं जिनमें परमेश्वर के विश्वासियों को जरूर प्रवेश करना चाहिए मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवात्मक गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें