154 मसीह का सार तय होता है उसके काम और अभिव्यक्तियों से

1

मसीह का सार तय होता है उसके काम और अभिव्यक्तियों से।

सच्चे दिल से पूरा करता है वो काम जो सुपुर्द है उसके,

स्वर्ग के परमेश्वर को पूजता है

और अपने पिता की इच्छा तलाशता है।

ये सब तय होता है उसके सार से,

और उसी से उसके कुदरती प्रकाशन तय होते हैं।

वो कुदरती प्रकाशन कहलाते हैं,

चूंकि उसकी अभिव्यक्तियां नकल नहीं हैं,

ना ही इंसान के बरसों के सुधार या तालीम का नतीजा हैं।

ना तो इन्हें उसने सीखा है, ना ख़ुद पर सजाया है, बल्कि सहज हैं।

ना तो इन्हें उसने सीखा है, ना ख़ुद पर सजाया है,

बल्कि सहज हैं, बल्कि सहज हैं, सहज हैं, सहज हैं।

बल्कि सहज हैं, सहज हैं, सहज हैं।

2

इंसान उसके काम को,

अभिव्यक्तियों को, मानवता को नकार सकता है,

वे उसके सामान्य मानवता के जीवन को भी नकार सकते हैं,

मगर उसके सच्चे दिल को नहीं

जब वो स्वर्ग में परमेश्वर को पूजता है।

कोई नकार नहीं सकता कि

वो स्वर्गीय पिता की इच्छा को पूरा करने की ख़ातिर यहां है।

और कोई नकार नहीं सकता जिस सच्चाई से

वो पिता परमेश्वर को खोजता है।

शायद उसकी छवि इंद्रियों को ना भाए,

शायद उसके उपदेश का लहजा निराला ना हो,

शायद उसका काम धरती-या-आकाश को उतना ना हिला पाए,

जितना इंसान अपनी कल्पना में मानता है।

मगर वो सचमुच मसीह है, जो पूरा करता है इच्छा अपने पिता की,

पूरे दिल से, पूरे समर्पण से, मौत की हद तक आज्ञापालन से।

ऐसा इसलिये कि उसका सार मसीह का है।

इन्सान के लिये इस सच पर यकीन करना मुश्किल है,

मगर जो सचमुच वजूद में है, मगर जो सचमुच वजूद में है,

मगर जो सचमुच वजूद में है, मगर जो सचमुच वजूद में है,

मगर जो सचमुच वजूद में है।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वर्गिक परमपिता की इच्छा के प्रति आज्ञाकारिता ही मसीह का सार है' से रूपांतरित

पिछला: 153 मसीह की पहचान परमेश्वर स्वयं है

अगला: 155 परमेश्वर का देह और आत्मा सार में एक-समान हैं

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें