54 अंतिम दिनों का मसीह लाता है राज्य का युग

1

जब मानव जगत में यीशु आया,

व्यवस्था के युग को समाप्त कर, अनुग्रह का युग लाया।

बना फिर देहधारी अंतिम दिनों में परमेश्वर।

अनुग्रह के युग को समाप्त कर, राज्य का युग लाया।

2

परमेश्वर का दूजा देहधारण है जिन्हें स्वीकार

वे राज्य के युग में ले जाये जायेंगे, और उसकी रहनुमाई पायेंगे।

मानवता की मुक्ति ख़ातिर यीशु ने उनके संग रहकर काम किया,

मानव के पापों की ख़ातिर ख़ुद अपना बलिदान किया।

फिर भी गया न मानव का खोटा स्वभाव।

3

शैतान के दूषित असर से मानव को बचाने की ख़ातिर,

यीशु की पाप-बलि काफ़ी नहीं है।

काम परमेश्वर को व्यापक करना होगा

शैतान द्वारा कलंकित स्वभाव से मानव को छुड़ाना होगा।

4

देकर माफ़ी मानव को उसके पापों के लिये,

देह में परमेश्वर फिर लौट आया, ले जाने मानव को नवयुग में,

ताड़ना और न्याय के युग में, मानव को ऊंचे राज्य में ले जाने।

5

जो समर्पित उसकी प्रभुता में होंगे

पायेंगे वो सत्य ऊंचा और अनंत आशीष।

आह, वे रहेंगे रोशनी में! और मिलेगी राह, सच और ज़िंदगी उनको!

— "वचन देह में प्रकट होता है" की 'प्रस्तावना' से रूपांतरित

पिछला: 53 सभी देशों के लोगों को जीत लेगा परमेश्वर

अगला: 55 अंत के दिनों में परमेश्वर इंसान का न्याय और शुद्धिकरण वचनों से करता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें