81 ओह, परमेश्वर! मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता

1

यह तुम्हारी वाणी ही है जो तुम्हारी उपस्थिति तक  आने में मेरा मार्गदर्शन करती है।

ये तुम्हारे वचन हैं जो मेरे दिल को जीत लेते हैं।

ये तुम्हारा कोमल प्रेम, जीवन से भरे तुम्हारे वचन हैं,

जो मेरे दिल को कसकर थामे रहते हैं, और आगे तुम्हें प्रेम करने में मुझे सक्षम बनाते हैं।

तुम हमेशा मेरे ख़यालों में हो, ओह, तुम हमेशा मेरे  ख़यालों में हो.

2

तुम्हारे वचनों ने मुझे तुम्हारे प्रेम में डुबो दिया है।

तुम्हारा सुन्दर चेहरा मेरे प्रेम को प्रेरित करता है।

तुम्हारे वचन हमारा न्याय करते और हमें उजागर करते हैं, वे हमें सांत्वना और हिम्मत देते हैं; तुम्हारे दयालु वचन इंसान के दिल को छू लेते हैं. 

तुम्हारी काट-छाँट और तुम्हारा मुझसे निपटना, साथ ही तुम्हारा प्रबोधन, मुझे तुम्हारे प्रेम को चखने देते हैं।

तुम्हारे प्रेम से मेरा दिल छलक जाता है। ओह, मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता।

3

तुम्हारा स्वभाव धर्मी, पवित्र, और बहुत मनभावन है.

तुम्हारा ज्ञान और तुम्हारा अनोखापन मनोहर हैं।

हालाँकि, आज मेरा परीक्षण होता है, और पीड़ा मेरे दिल को शुद्ध करती है, 

तुम्हारे वचन हमेशा मेरे साथ होते हैं। मैं बस तुम्हें जितनी भी अच्छी तरह हो सके, प्रेम करना चाहता हूँ। 

तुम्हारे आयोजन के बीच रहकर, मुझे कोई शिकायतें नहीं हैं। ओह, तुम्हारे आयोजन के बीच रहकर, मुझे कोई शिकायतें नहीं हैं।

4

मानव जाति के लिए तुम्हारा प्रेम बहुत सच्चा, बहुत वास्तविक है।

मैं ख़ुशी से तुम्हें संतुष्ट करने के लिए यथाशक्ति सब कुछ कर सकता हूँ।

यद्यपि ये परीक्षण और शोधन गंभीर हैं, मेरे पास तुम्हारे वचनों का मार्गदर्शन है।

मुझे तुम्हारे में पूरी आस्था है। जब तक मैं तुम्हें प्रेम कर सकूँ और गवाही दे सकूँ,

तब तक मैं किसी भी कठिनाई से, चाहे वह कितनी भी बड़ी क्यों न हो, गुज़रने को तैयार हूँ। ओह, तुम्हारे लिए मेरा प्रेम कभी नहीं बदलेगा।

पिछला: 80 परमेश्वर के प्रेम का प्रतिदान देना और उसका साक्षी होना

अगला: 82 मैं परमेश्वर को प्रेम करना चाहता हूँ

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें