82 प्रेम की खातिर खोजना

I

उन सभी सत्यों से जो तुमने अभिव्यक्त किए हैं,

मैंने देखा है कि तुम प्रेम हो।

तुम सदैव मेरे प्यारे प्रियतम हो,

मैं बहुत चाहता हूँ कि तुम्हारे साथ रहूँ।

मैं सदैव तुम्हारी बांहों का सहारा चाहता हूँ

और तुम्हारा विश्वास-पात्र बनना चाहता हूँ।

हमारे बीच मैं कोई दूरी नहीं चाहता

और सदा तुम्हारे करीब आना चाहता हूँ।


II

जबसे पहली बार तुम्हारी आवाज़ सुनी है,

मैं जीवन भर के लिए तुम्हें भूल न सकूँगा।

तुम्हारी आवाज़, ओह, कितनी अच्छी है

और तुम्हारे वचन तेजस्वी और शक्तिशाली हैं।

हर वचन जिसे तुम कहते हो,

सत्य है और मुझे जीवन में उन वचनों की ज़रुरत है।

तुम्हारे वचनों ने मेरे हृदय को आकर्षित किया है,

तुम्हारा अनुसरण करने को मैंने सब कुछ छोड़ दिया है।

तुम जो भी कहते या करते हो, वह प्रेम है,

यह सब मुझे शुद्ध करने और बचाने के लिए है।

मैं तुम्हारा अनुसरण करता हूँ और तुम्हारे प्रेम की धूप का आनंद लेता हूँ,

आगे निःसंकोच बढ़ता ही जाता हूँ।

तुम मनुष्य के प्रेम के बहुत हक़दार हो;

तुम्हारा प्रेम इतना गहरा है कि मनुष्य इसे नाप नहीं पाता है।

मैं बहुत समीप से तुम्हारा अनुसरण करता हूँ,

प्रेम की खातिर तलाश करता हूँ।


III

मैं समझ गया हूँ कि तुम्हारे वचन ही सत्य हैं;

मैंने देखा है तुम्हारा स्वभाव बहुत आदरणीय है।

तुम्हारा पवित्र प्रेम प्रशंसा जगाता है;

हम तुम्हारी धर्मिता के लिए तुम्हारी स्तुति करते हैं।

मैं भ्रष्टता से भरा हुआ हूँ और मैं तुमसे प्रेम करना चाहता हूँ,

पर खुद पर मेरा वश नहीं है।

न्याय, परीक्षणों और शुद्धिकरण से होकर,

मैंने तुम्हारे उदार इरादों को समझा है।

तुम जो भी कहते या करते हो, वह प्रेम है,

यह सब मुझे शुद्ध करने और बचाने के लिए है।

मैं तुम्हारा अनुसरण करता हूँ और तुम्हारे प्रेम की धूप (का आनंद) लेता हूँ,

आगे निःसंकोच बढ़ता ही जाता हूँ।

तुम मनुष्य के प्रेम के बहुत हक़दार हो;

तुम्हारा प्रेम इतना गहरा है कि मनुष्य इसे नाप नहीं पाता है।

मैं बहुत समीप से तुम्हारा अनुकसण करता हूँ,

प्रेम कीखातिर तलाश करता हूँ।

मेरे कष्टों के मध्य तुम मेरे साथ हो।

जब मैं असफल रहता हूँ और ठोकर खाता हूँ,

तुम मुझे उठाते हो।

तुम मुझे उठाते हो।

तुम मुझे उठाते हो।

तुमने मुझे कभी नहीं त्यागा है,

तुम हमेशा मेरी परवाह और रक्षा करते रहे हो।

तुम मुझे उठाते हो।

तुम मुझे उठाते हो।

तुम मुझे उठाते हो।

तुम जो भी कहते या करते हो, वह प्रेम है,

यह सब मुझे शुद्ध करने और बचाने के लिए है।

मैं तुम्हारा अनुसरण करता हूँ और तुम्हारे प्रेम की धूप (का आनंद) लेता हूँ,

आगे निःसंकोच बढ़ता ही जाता हूँ।

तुम मनुष्य के प्रेम के बहुत हक़दार हो;

तुम्हारा प्रेम इतना गहरा है कि मनुष्य इसे नाप नहीं पाता है।

मैं बहुत समीप से तुम्हारा अनुसरण करता हूँ, प्रेम की

खातिर तलाश करता हूँ।

पिछला: 81 हे परमेश्वर, मैं तुम्हारे बिना नहीं रह सकता/सकती हूँ

अगला: 83 परमेश्वर का प्रेम

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें