623 क्या इस तरह का स्वभाव परमेश्वर की सेवा के योग्य है?

1 तुम में से प्रत्येक को, ऐसे लोगों के तौर पर, जो सेवा करते हैं, जो कुछ तुम करते हो उन सभी चीजों में कलीसिया के हितों की रक्षा करने में सक्षम होना चाहिए, इसके बजाय कि तुम अपने हितों की रक्षा लगे रहो। यह अकेले किये जाने के लिए अस्वीकार्य है, जहां तुम उसे कमजोर करो और वह तुम्‍हें कमज़ोर करे। इस तरह का बर्ताव करने वाले लोग परमेश्वर की सेवा के लिए उपयुक्त नहीं हैं! इस तरह के व्यक्तियों का स्वभाव इतना बुरा है; मानवता का एक औंस भी उनमें शेष नहीं बचता है। वे एक-सौ प्रतिशत शैतान हैं! वे जानवर हैं! अब तक इस तरह की चीजें तुम्हारे बीच घटती हैं, साहचर्य के दौरान एक-दूसरे पर हमला करने, जानबूझकर बहानों की खोज करने, कुछ छोटी बातों पर बहस करते हुए पूरा लाल हो जाने तक भी चली जाती हैं, कोई व्यक्ति पीछे हटने को तैयार नहीं होता, प्रत्येक व्यक्ति अपने अंदर जो है उसे दूसरे से छुपाता रहता है, दूसरे पक्ष को ध्यान से देखता और चौकन्ना रहता है।

2 क्या इस प्रकार का स्वभाव परमेश्वर की सेवा के लिए उपयुक्त हो सकता है? क्या तुम जैसा कार्य तुम लोग करते हो वो भाइयों और बहनों को पोषण दे सकता है? न केवल तुम लोगों का सही जीवनचर्या के रास्ते पर लाने में असमर्थ हो, बल्कि तुम वास्तव में अपने भ्रष्ट स्वभावों को भाइयों और बहनों के भीतर डालते हो। क्या तुम दूसरों को चोट नहीं पहुंचा रहे हो? तुम्हारा विवेक बहुत बुरा है, अंदर तक सड़ा हुआ है! तुम वास्तविकता में प्रवेश नहीं करते हो, और सच्चाई को अभ्यास में नहीं लाते हो। और तो और तुम बेशर्मी से अन्य लोगों के सामने अपनी शैतानी प्रकृति का खुलासा करते हो, तुम्हें बिल्कुल शर्म नहीं आती! भाइयों और बहनों को तुम को सौंपा गया है, लेकिन तुम उन्हें नर्क में ले जाते हो। क्या तुम ऐसे व्यक्ति नहीं हो जिसकी अन्तरात्मा सड़ गयी है? तुम पूरी तरह बेशर्म हो!

— "वचन देह में प्रकट होता है" में "वैसे सेवा करो जैसे कि इस्राएलियों ने की" से रूपांतरित

पिछला: 608 परमेश्वर की इच्छा के अनुसार सेवा कैसे करें

अगला: 979 परमेश्वर मनुष्य के कर्मों के बारे में क्या सोचता है

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें