587 धन्य हैं वे जो ईश्वर के लिए स्वयं को सचमुच खपाते हैं

1

उन्हें चाहूँ जो करें मेरी इच्छा पूरी जो कर पाएँ परवाह मेरे बोझ की,

और दें सब कुछ अपना मुझको ही, पूरे हृदय और ईमानदारी से ही।

मैं सदा उनको प्रबुद्ध करूँगा, मैं उन्हें अपने से दूर जाने ना दूंगा।

"जो खुद को मेरे लिए खपाता, इस बात को निष्ठा से करता,

मैं तुम्हें दूँगा आशीष निश्चय ही,"

यही वो वचन हैं, जो कहूँ मैं सदा ही।

2

क्या तुम्हें मालूम है "आशीष" क्या है?

पवित्र आत्मा के काम से, उसके अभी के काम के लिहाज से,

मैं ये बोझ तुम्हें देता हूँ।

"जो खुद को मेरे लिए खपाता, इस बात को निष्ठा से करता,

मैं तुम्हें दूँगा आशीष निश्चय ही,"

यही वो वचन हैं, जो कहूँ मैं सदा ही।

3

वो सब जो कलीसिया का बोझ उठाते हैं,

निष्ठा से खुद को मुझपे खपाते हैं।

उनके बोझ और सच्चे दिल मेरे दिए आशीष हैं

और मेरा प्रकाशन भी उनके लिए मेरा आशीष है।

"जो खुद को मेरे लिए खपाता, इस बात को निष्ठा से करता,

मैं तुम्हें दूँगा आशीष निश्चय ही,"

यही वो वचन हैं, जो कहूँ मैं सदा ही।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'आरंभ में मसीह के कथन' के 'अध्याय 82' से रूपांतरित

पिछला: 586 इस मौके को खो दोगे तो तुम हमेशा पछताओगे

अगला: 588 उठो, सहयोग करो परमेश्वर से

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें