942 बेहद दयालु और अत्यंत क्रोधी है परमेश्वर

1

परमेश्वर की दया और उसके क्रोध का अस्तित्व है,

ये कितना असली, कितना सच्चा है,

मगर जब अपने क्रोध को वो बेलगाम करता है,

तो उसकी पवित्रता और धार्मिकता

इंसान को परमेश्वर का वो पहलू भी दिखाते हैं जो अपमान सहन नहीं करता।

जब इंसान परमेश्वर के आदेशों का अनुसरण और पालन कर पाता है

और परमेश्वर की अपेक्षाओं के अनुसार चल पाता है,

तो इंसान के लिये विपुल और भरपूर होती है दया परमेश्वर की।

जब भर जाता है इंसान दूषण से, घृणा से और शत्रुता से परमेश्वर के लिये,

तो दिखाएगा अतिशय क्रोध परमेश्वर।

और किस हद तक होगा क्रोध परमेश्वर का?

बना रहेगा क्रोध उसका तब तक,

देख न ले वो इंसान में बचे नहीं दुष्कर्म और विरोध तब तक,

नहीं हैं वे परमेश्वर की नज़र के सामने तब तक।

विलीन होगा परमेश्वर का क्रोध तभी।

2

कोई भी हो इंसान, दूर हो गया दिल उसका परमेश्वर से अगर,

कभी न लौटने के लिये मुँह फेर लिया परमेश्वर से अगर,

दिखाने भर को या इच्छा से करना चाहता हो आराधना,

अनुसरण और आज्ञापालन परमेश्वर का तन से या विचारों से,

एक बार गर हो गया दिल दूर परमेश्वर से,

तो प्रवाहित होगा क्रोध परमेश्वर का बिना रुके।

देकर मौके इंसान को बहुतायत में,

जब करता है परमेश्वर क्रोध प्रवाहित गहराई से,

तो राह नहीं होगी कोई भी वापस लेने की इसे,

फिर कभी न होगा दयावान और सहनशील परमेश्वर, ऐसे मानव के लिये।

ये एक पहलू है परमेश्वर के उस स्वभाव का,

जो करता नहीं सहन कभी अपमान कोई।

चीज़ें जो सुंदर हैं, उदार हैं, अच्छी हैं, वो सहनशील हैं, दयावान हैं उनके लिये।

चीज़ें जो बुरी हैं, पापमयी हैं और दुष्ट हैं, वो महाक्रोधी है उनके लिये,

इतना कि वो अनवरत करता है क्रोध प्रवाहित,

इतना कि वो अनवरत करता है क्रोध प्रवाहित।

यही दो मुख्य पहलू हैं परमेश्वर के स्वभाव के,

आदि से अंत तक प्रकट करता है इन्हें परमेश्वर: भरपूर दया और अत्यंत क्रोध।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य, परमेश्वर का स्वभाव और स्वयं परमेश्वर II' से रूपांतरित

पिछला: 941 परमेश्वर का धार्मिक स्वभाव है अनूठा

अगला: 943 परमेश्वर का स्वभाव दयालु, प्रेमपूर्ण, धर्मी और प्रतापी है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें