220 विश्वासियों को ध्यान से ईश्वर के पदचिह्नों का अनुसरण करना ही चाहिए

क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे।

1

पवित्र आत्मा का कार्य निकाले उन्हें जो सिद्धांतों के गुलाम हैं।

हर युग में ईश्वर नया काम करे, इंसानों के बीच नई शुरुआत करे।

अगर इंसान एक ही युग के इन सत्यों को मानेगा

कि "यहोवा ईश्वर है" और "यीशु मसीह है,"

तो पवित्रात्मा के काम के संग चल न सकेगा, न कभी उसे हासिल करेगा।

क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे।

कदम-दर-कदम ईश्वर के पीछे चले, "जहाँ मेमना जाए, वहीं जाए।"

ये ही लोग सच्चा मार्ग खोजें, ये ही लोग जानें पवित्रात्मा के काम को।

जो अंत तक मेमने का अनुसरण करें वे ही अंतिम आशीष पाएँ।

2

जो अंत तक अनुसरण न करें, या पवित्र आत्मा के काम संग न चलें,

जो पुराने काम से चिपके रहें वे ईश्वर के प्रति वफ़ादार न रह पाएँ।

वे ईश्वर-विरोधी बनकर, नये युग द्वारा नकारे जाएँ, वे सभी अंत में सज़ा पाएँ।

इनसे ज़्यादा दयनीय और कौन हो सके।

क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे।

कदम-दर-कदम ईश्वर के पीछे चले, "जहाँ मेमना जाए, वहीं जाए।"

ये ही लोग सच्चा मार्ग खोजें, ये ही लोग जानें पवित्रात्मा के काम को।

जो अंत तक मेमने का अनुसरण करें वे ही अंतिम आशीष पाएँ।

3

जो हूबहू व्यवस्था से चिपके रहें व्यवस्था के प्रति अधिक वफ़ा दिखाएँ,

वे विद्रोही उतना ही ईश्वर का विरोध करें।

अब व्यवस्था का नहीं, राज्य का युग है।

पहले किए गए काम के बराबर न रखा जा सके आज के काम को;

पिछले की तुलना न हो आज के काम से।

ईश-कार्य बदला है, इंसान का अभ्यास भी बदला है;

ये व्यवस्था-पालन या क्रूस धारण करना नहीं है।

इनके प्रति इंसान की वफ़ा को नहीं मिलेगी ईश्वर की स्वीकृति।

क्यूँकि रखे इंसान ईश्वर में आस्था, उसे चलना चाहिए ध्यान से उसके पीछे।

कदम-दर-कदम ईश्वर के पीछे चले, "जहाँ मेमना जाए, वहीं जाए।"

ये ही लोग सच्चा मार्ग खोजें, ये ही लोग जानें पवित्रात्मा के काम को।

जो अंत तक मेमने का अनुसरण करें वे ही अंतिम आशीष पाएँ।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का अभ्यास' से रूपांतरित

पिछला: 219 तुम जो सयाने हो, जल्दी से जाग उठो

अगला: 221 क्या तुम परमेश्वर के वर्तमान कार्य का अनुसरण करते हो

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें