511 ईश्वर की संतुष्टि के लिए हर चीज़ में ईश्वर की गवाही दो

हर चीज़ जो ईश्वर करता है तुम्हारे भीतर,

उसमें शैतान उससे बाज़ी लगाए।

है एक जंग, हर काम के पीछे,

जो ईश्वर करता तुम्हारे भीतर।

जब भी कुछ होता तुम्हारे साथ जीवन में,

उस निर्णायक पल में ईश्वर को होती तुम्हारी ज़रूरत

कि डटे रहो तुम उसके लिए अपनी गवाही में।


भले नहीं हुआ है कुछ बड़ा तुम्हारे साथ अब तक,

और तुमने अब तक नहीं दी है महान गवाही,

हर वो चीज जो करते हो तुम,

चाहे कितनी ही छोटी हो,

जुड़ा है ईश्वर की गवाही से यह सब।

अगर तुम पा लो तारीफ आसपास वालों से,

तभी तुमने दी होगी गवाही।

अगर किसी दिन आएं अविश्वासी

और करें तारीफ तुम्हारे हर काम की,

देख लें ईश्वर का हर काम है महान,

तब तुमने दी होगी गवाही।

हर चीज़ जो ईश्वर करता है तुम्हारे भीतर,

उसमें शैतान उससे बाज़ी लगाए।

है एक जंग, हर काम के पीछे,

जो ईश्वर करता तुम्हारे भीतर।

जब भी कुछ होता तुम्हारे साथ जीवन में,

उस निर्णायक पल में ईश्वर को होती तुम्हारी ज़रूरत

कि डटे रहो तुम उसके लिए अपनी गवाही में।


भले नहीं तुममें अंतर्दृष्टि,

कम है क्षमता तुम्हारी,

ईश्वर द्वारा पूर्णता पाकर

पा सकते रास्ते उसे संतुष्ट करने के,

रख सकते उसकी इच्छा ध्यान में।

दूसरे कम क्षमता वालों में उसका महान काम देखें,

जो जान जाते ईश्वर को और

विजेता बन खड़े होते सामने शैतान के।

और दुनिया में दूसरा ऐसा नहीं

जिसमें हो इनसे ज्यादा मजबूती,

विजेताओं के इस समूह से।

यही है सबसे बड़ी गवाही।

हर चीज़ जो ईश्वर करता है तुम्हारे भीतर,

उसमें शैतान उससे बाज़ी लगाए।

है एक जंग, हर काम के पीछे,

जो ईश्वर करता तुम्हारे भीतर।

जब भी कुछ होता तुम्हारे साथ जीवन में,

उस निर्णायक पल में ईश्वर को होती तुम्हारी ज़रूरत

कि डटे रहो तुम उसके लिए अपनी गवाही में।


चाहे तुम महान काम ना कर पाओ,

फिर भी ईश्वर को संतुष्ट कर सकते हो।

तुम छोड़ सकते हो अपनी धारणाएँ,

जबकि दूसरे नहीं छोड़ सकते,

दूसरे नहीं दे सकते गवाही ईश्वर की,

तुम दे सकते हो,

और अपने कामों से तुम,

ईश्वर का प्रेम चुका सकते हो,

सिर्फ यही माना जाता है ईश्वर से असल प्रेम।

हर चीज़ जो ईश्वर करता है तुम्हारे भीतर,

उसमें शैतान उससे बाज़ी लगाए।

है एक जंग, हर काम के पीछे,

जो ईश्वर करता तुम्हारे भीतर।

जब भी कुछ होता तुम्हारे साथ जीवन में,

उस निर्णायक पल में ईश्वर को होती तुम्हारी ज़रूरत

कि डटे रहो तुम उसके लिए अपनी गवाही में।


'वचन देह में प्रकट होता है' से रूपांतरित

पिछला: 663 जब परीक्षण आ पड़ें तो तुम्हें परमेश्वर की ओर खड़े होना चाहिए

अगला: 665 इम्तहान में परमेश्वर को इंसान का सच्चा दिल चाहिए

दुनिया आपदा से घिर गई है। यह हमें क्या चेतावनी देती है? आपदाओं के बीच हम परमेश्वर द्वारा कैसे सुरक्षित किये जा सकते हैं? इसके बारे में ज़्यादा जानने के लिए हमारे साथ हमारी ऑनलाइन मीटिंग में जुड़ें।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

वचन देह में प्रकट होता है अंत के दिनों के मसीह के कथन (संकलन) अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह के लिए गवाहियाँ परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें