428 परमेश्वर के सामने शांत कैसे रहें

लोगों और चीज़ों से दूर जाओ, आत्मिक भक्ति के लिए वक्त निकालो,

जहाँ अपने दिल को सुकून दे सको, ईश्वर के सामने शांत रह सको।

ईश-वचनों की अपनी समझ को लिखो कैसे उसने तुम्हें प्रेरित किया,

ये हलका हो या गहरा, ईश्वर के आगे शांत रहो।

1

हर दिन सच्चे आत्मिक जीवन को थोड़ा समय दो;

उस दिन जीवन तुम्हें समृद्ध लगेगा, दिल तुम्हारा उजला और रोशन होगा।

ईश्वर को दिल अधिक दोगे तुम, आत्मा तुम्हारी अधिक मज़बूत होगी।

पवित्रात्मा के मार्ग पर चलोगे तुम, ईश्वर के अनेक आशीष तुम पाओगे।

शुरू में इस सफ़र में शायद बेहतर परिणाम न मिलें तुम्हें,

मगर कमज़ोर न पड़ना, पीछे न हटना। बस मेहनत करते जाना।

ईश्वर के आगे अपना दिल शांत रखने के लिए,

विचारपूर्वक सहयोग करते जाना!

2

आत्मिक जीवन जितना जियोगे, ईश-वचनों से दिल तुम्हारा उतना ही भरेगा,

सदा इन बातों से जुड़ा रहेगा, सदा इस भार को वहन करेगा।

तब ईश्वर से अपने आत्मिक जीवन के ज़रिए दिल की बात करनी चाहिए तुम्हें।

उसे अपनी सोच, अपनी चाहत बताओ,

उसके वचनों पर अपनी समझ बताओ।

उससे कुछ न छिपाओ, ईश्वर को अपने दिल की बात बताओ,

अपनी सच्ची भावनाएँ बताओ, बताओ खुलकर अपने दिल का हाल।

3

ऐसा करके, उसकी प्रियता को महसूस करोगे,

अपना दिल उसके और करीब लाओगे।

ईश्वर तुम्हें सबसे प्यारा लगेगा, हर हाल में, तुम उसके साथ रहोगे।

हर दिन इसका अभ्यास करो, इसे अपने मन से मत निकालो,

इसे अपने जीवन की पुकार समझो, फिर ईश-वचन भर देंगे दिल को तुम्हारे।

मानो सदा से रहा है प्रेम दिल में तुम्हारे कोई इसे न ले पाए तुमसे।

ईश्वर रहेगा अंदर तुम्हारे, पाएगा जगह दिल में तुम्हारे।

ईश्वर के आगे अपना दिल शांत रखने के लिए,

विचारपूर्वक सहयोग करते जाना!

ईश्वर के आगे अपना दिल शांत रखने के लिए,

विचारपूर्वक सहयोग करते जाना!

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'एक सामान्य आध्यात्मिक जीवन लोगों को सही मार्ग पर ले जाता है' से रूपांतरित

पिछला: 427 परमेश्वर अपने संग सहयोग करने वालों को दुगुना प्रतिफल देता है

अगला: 429 अपने हृदय को परमेश्वर के आगे शांत करने के तरीके

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें