493 क्या तुम परमेश्वर को आनंद देने वाला फल बनना चाहते हो?

1

ईश-जनों को शैतान के षडयंत्रों से चौकस रहना चाहिए,

एक-दूजे की मदद कर, ईश-गृह के द्वार की रक्षा करनी चाहिए।

ताकि बच सको शैतान के जाल से, पछतावे से।

पता है ईश्वर तुम सबको क्यों इतनी जल्दी तैयार करे?

वो क्यों तुम सबको आध्यात्मिक जगत के सच बताए?

क्यों तुम्हें बार-बार याद दिलाए, प्रेरित करे?

क्या कभी ये सोचा तुमने? क्या कभी समझा तुमने?

अतीत से सीखकर ज़्यादा अनुभवी बनो,

आज के वचनों की रोशनी में अशुद्धियाँ दूर करो।

ईश-वचनों को अपनी आत्मा में जमने

और खिलने दो, ताकि तुम उसके फल पाओ।

2

ईश्वर को चमकते फूल नहीं, फल चाहिए जो कभी ख़राब न हो।

पौधा-घर में फूल असंख्य तारों की तरह होते,

पर मुरझाने पर कोई उधर ध्यान न दे।

वो शैतान के षडयंत्रों की तरह बिखर जाते।

जो सूरज और हवा से लड़ते, ईश्वर की गवाही देते,

भले ही वो सुंदर नहीं, पर सूखकर भी फल देते।

ईश्वर को वही फल तो चाहिए।

कितना समझते तुम लोग जब ईश्वर बोले ये वचन?

अतीत से सीखकर ज़्यादा अनुभवी बनो,

आज के वचनों की रोशनी में अशुद्धियाँ दूर करो।

ईश-वचनों को अपनी आत्मा में जमने

और खिलने दो, ताकि तुम उसके फल पाओ।

ईश्वर-आनंद की ख़ातिर जब फूल मुरझाकर फल दें,

तो धरती पर ईश-कार्य पूरा होगा, वो अपने बुद्धि-फल का सुख लेगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 3' से रूपांतरित

पिछला: 492 इन्सान के लिए परमेश्वर की सलाह

अगला: 494 केवल परमेश्वर के वचनों का अभ्यास करने से ही वास्तविकता आती है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2023 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें