181 परमेश्वर के देहधारण का अधिकार और मायने

1

इंसान की कद-काठी, ज्ञान, प्रेम, आस्था,

आज्ञाकारिता और जो कुछ देखता है इंसान,

आया है वो सब वचन के न्याय से।

टिकी है आस्था तुम्हारी उसके वचन से।

देखता है इंसान परमेश्वर के अद्भुत कार्य को इसके ज़रिये।

बहुत कुछ है जो इंसान की समझ के परे है;

चहुँ ओर हैं चमत्कार और रहस्य बड़े हैं।

और बहुतों ने इसीलिये कर दिया समर्पण।

उसके वचन के न्याय के परे कोई जाता नहीं,

और अंधेरा कोई उसके अधिकार पर व्याप्त होता नहीं।

इंसान होता है समर्पित, उसके देहधारण, अधिकार

और वचन के न्याय की वजह से।

2

किया नहीं समर्पण जिन्होंने कभी, टेकते हैं घुटने समक्ष परमेश्वर के,

जब होता है सामना उसके वचन से।

झुकते हैं उसके वचन के न्याय के आगे,

करते नहीं छानबीन या परख कभी अपनी ज़बाँ से।

प्रकट होता है परमेश्वर देह में सामान्य मानव की तरह,

मगर देखता है इंसान उसका अधिकार पूरा उसके वचन में।

वो स्वयं परमेश्वर है, उसी की अभिव्यक्ति है उसके वचन में।

कर सकता नहीं कोई अपमान उसका, वो परमेश्वर है देह में।

3

देहधारी परमेश्वर व्यक्त करता है अपने वचन,

ताकि सुन सकें और कर सकें ग्रहण न्याय उसका सभी।

रूह के रूप में आकर समर्पण के लिये इंसान को, परमेश्वर डराता नहीं।

इस सच्चे और अपूर्व कार्य से उजागर होता है,

असली स्वभाव इंसान का, जो गहरा दबा होता है,

ताकि पहचानकर बदले इसे इंसान।

न्याय परमेश्वर का है व्यवहारिक और पहुँचता है ज़रिये वचन के।

4

परमेश्वर के देहधारण का अधिकार और मायने यही है।

परमेश्वर के देहधारण का अधिकार और मायने यही है।

उसके वचन के न्याय के परे कोई जाता नहीं,

और अंधेरा कोई उसके अधिकार पर व्याप्त होता नहीं।

इंसान होता है समर्पित, उसके देहधारण, अधिकार

और वचन के न्याय की वजह से,

उसके देहधारण, अधिकार और वचन के न्याय की वजह से।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'देहधारण का रहस्य (4)' से रूपांतरित

पिछला: 180 व्यावहारिक परमेश्वर इंसानों के बीच प्रकट होता है

अगला: 182 परमेश्वर के देहधारण का अधिकार

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें