253 मैं बस इतना चाहूँ कि परमेश्वर को संतुष्टि मिले

1

मैंने परमेश्वर के इतने अनुग्रह का आनंद लिया है,

मगर नहीं की है खोज सत्य की।

भले ही मैंने अपना कर्तव्य निभाया है,

मैंने बस लापरवाही से काम किया। मैं ईश्वर को बेवकूफ बनाने की कोशिश भी की,

परमेश्वर के दिल को गहराई से दुखाया है।

परमेश्वर ने बारम्बार दिखाई नरमी और दया।

उन्होंने मुझे दिये मौके पछतावे के।

न्याय, अनुशासन और ताड़ना—

इन सबने मेरे सुन्न दिल को दे दी संवेदना।

सत्य को समझ के,

मैं परमेश्वर के प्रेम का अनुभव करता हूँ और मैं पछतावे से भरा हूँ।

महान है उनकी कृपा,

पर मैंने कुछ भी नहीं दिया परमेश्वर को।

आऊँ कैसे उनके सामने, बहुत-बहुत शर्मिंदा हूँ मैं,

कि दिया नहीं मैंने उन्हें प्यार थोड़ा भी।

सत्य को खोजना,

एक नया जन्म लेना,

परमेश्वर के प्रेम को चुकाना,

एक यही है कामना मेरी,

एक यही है कामना मेरी।

2

मैं परमेश्वर के उपदेशों को दिल में संजो के रखता हूँ,

कि उन्होंने जो मिशन मुझे सौंपा वो

पूरा कर सकूं।

मैं हर दिन सत्य साधता हूँ, अपने कर्तव्य निभाता हूँ

परमेश्वर के दिल को संतुष्टि देने के लिए।

उनकी पवित्र योजना और प्रभुसत्ता से,

मैं अपने इम्तहानों का सामना करता हूँ।

मैं कैसे हार मान लूँ या छिपने की कोशिश करूं?

सबसे पहले जो है वो है परमेश्वर की महिमा।

संकट की घड़ियों में,

परमेश्वर के वचन राह दिखायें मुझे

और पूरी करें मेरी आस्था।

मैं हूँ पूरा निष्ठा में डूबा हुआ,

परमेश्वर को समर्पित, मौत के भय के बिना।

हमेशा सबसे ऊपर है उनकी इच्छा।

3

शपथ लेता हूँ परमेश्वर को प्रेम के बदले प्रेम देने की।

मैं गुणगान करता हूँ उनका दिल में।

मैंने देखा है धार्मिकता के सूर्य को,

सत्य करता है काबू धरती की हर चीज़ को।

परमेश्वर का स्वभाव है धर्मी

और मानवता द्वारा गुणगान के लायक है।

मेरा दिल सदा-सदा करेगा प्रेम सर्वशक्तिमान परमेश्वर से,

और मैं उनके नाम को करूँगा बुलंद।

अपने भविष्य से बेपरवाह,

नुकसान-नफ़े का ध्यान नहीं।

मैं बस इतना चाहूँ कि

परमेश्वर को संतुष्टि मिले।

मैं दूं गूँज-भरी गवाही

परमेश्वर के गौरवगान की, शैतान को लज्जित करने की।

पिछला: 252 मैं परमेश्वर को अपना सच्चा हृदय अर्पित करता हूँ

अगला: 254 प्रायश्चित्त

अब बड़ी-बड़ी विपत्तियाँ आ रही हैं और वह दिन निकट है जब परमेश्वर भलाई का प्रतिफल देगें और बुराई को दण्ड देंगे। हमें एक सुंदर गंतव्य कैसे मिल सकता है?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन परमेश्वर का आगमन हो चुका है, वह राजा है सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें