921 परमेश्वर की सारी सृष्टि उसकी प्रभुता के अधीन होनी चाहिए

1

परमेश्वर ने बनाया सब कुछ, और इसलिए वह सृष्टि को लेता है,

अधीन अपने, और झुकाता आगे अपने प्रभुत्व के।

आदेश वो देता है सब को, हाथों में लेकर नियंत्रण।

जीव-जंतु, पहाड़, नदी, और मानव को अधीन उसके आना होगा।

चीज़ें जो आसमाँ और धरती पर हैं,

परमेश्वर के प्रभुत्व के अधीन सभी को आना है।

करना होगा समर्पण, विकल्प के बिना।

है आज्ञा यही परमेश्वर की और उसका है अधिकार।

2

परमेश्वर ने बनाया सब कुछ, और इसलिए वह सृष्टि को लेता है,

अधीन अपने, और झुकाता आगे अपने प्रभुत्व के।

परमेश्वर की आज्ञा से है सब कुछ।

वो दे क्रम और दे वो सबको स्थान,

प्रकार के अनुसार मिले वर्ग और परमेश्वर की इच्छा से मिलता है पद।

चीज़ें जो आसमाँ और धरती पर हैं,

परमेश्वर के प्रभुत्व के अधीन सभी को आना है।

करना होगा समर्पण, विकल्प के बिना।

है आज्ञा यही परमेश्वर की और उसका है अधिकार।

3

चाहे कोई चीज़ कितनी भी हो महान,

कभी जा नहीं पाएगी वो परमेश्वर की प्रभुता के पार।

ईश्वर-रचित हर चीज़ सेवा करे मानव की,

कोई न करे अवज्ञा या हिम्मत मांगने की।

ईश्वर के द्वारा रचे मानव को पालन कर्तव्यों का है करना।

चाहे मानव मालिक हो या हो रखवाला सब चीज़ों का,

चाहे जितना हो रुतबा ऊँचा, परमेश्वर के अधीन मानव छोटा सा है।

एक तुच्छ सा प्राणी है, परमेश्वर की सृष्टि, कभी परमेश्वर से ऊपर न होगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'सफलता या विफलता उस पथ पर निर्भर होती है जिस पर मनुष्य चलता है' से रूपांतरित

पिछला: 920 सभी चीज़ें परमेश्वर के अधिकार-क्षेत्र के अधीन होंगी

अगला: 922 कोई भी मनुष्य या वस्तु परमेश्वर के अधिकार और सामर्थ्य से बढ़कर नहीं हो सकता

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें