178 जब हम जुदा होंगे

1

भाई-बहन एक साथ इकट्ठे होते हैं और परमेश्वर के वचनों पर सहभागिता करके बहुत खुश होते हैं।

लेकिन सीसीपी के उत्पीड़न का अर्थ है कि हम पर सदा सभाओं में गिरफ़्तार होने का खतरा बना रहता है।

हम बहुत सावधानी से नाचते-गाते हैं, हमारा पता न लग जाए, इस बात से डरे रहते हैं।

हम कुछ और दिन साथ रहना चाहते हैं और जो हमारे दिल में है उसे कहना चाहते हैं, लेकिन हमारे पास कोई अवसर नहीं है।

जब हम अलग होते हैं, तो हमें पता नहीं होता कि हम एक-दूसरे से फिर कभी मिल पाएँगे या नहीं।

भाइयो और बहनो, जब हम अपने कर्तव्य निभाते हैं, अधिक प्रार्थना करते हैं, परमेश्वर का सम्मान करते और उस पर अधिक भरोसा करते हैं।

रास्ता चाहे कितने भी मुश्किल हो, परमेश्वर हमारे साथ है, हम अकेले नहीं हैं।

हम विपत्ति, दमन और शुद्धिकरण सहते हैं, हमारे साथ परमेश्वर का होना बहुत मूल्यवान होता है।

2

इस बुरी दुनिया में, परमेश्वर के लिए गवाही देना भरा हुआ है निराशा और क्लेश से।

परमेश्वर के वचन हमारे साथ होने से सत्य को समझकर हम शक्तिवान होंगे।

हमने शैतान के दुष्ट सार को देख लिया है, हमें बड़े लाल अजगर से सख़्त नफ़रत है।

शैतान को पूरी तरह से त्याग दो, ताकि हम सच में परमेश्वर से प्रेम कर सकें और परमेश्वर को समर्पित हो सकें।

अंधेरे के प्रभाव के पार जाने के लिए परमेश्वर पर भरोसा रखो, हमारी आँखों के सामने सुबह हो रही है।

हम एक-दूसरे के लिए प्रार्थना करते हैं, एक-दूसरे से प्यार करते हैं, हमारे दिलों में शांति है।

हम पुनर्मिलन के लिये राज्य के साकार होने का इंतज़ार कर रहे हैं, तब हम सदा के लिए एक साथ रहेंगे।

हम पुनर्मिलन के लिये राज्य के साकार होने का इंतज़ार कर रहे हैं, तब हम सदा के लिए एक साथ रहेंगे।

पिछला: 177 मैं परमेश्वर की गवाही देने के लिए जीने की शपथ लेती हूँ

अगला: 179 अँधेरे और दमन के बीच उठ खड़े होना

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें