329 परमेश्वर चाहता है सच्चा दिल मनुष्य का

1

ईश्वर को लोग आज सहेजते नहीं हैं;

उनके दिलों में उसकी जगह नहीं है।

आने वाले दिनों में, पीड़ा के दिनों में,

क्या वे दर्शा सकते हैं उसके लिए सच्चा प्रेम?

क्या ईश्वर के कार्य प्रतिफल के योग्य नहीं?

क्यों नहीं मानव उसे दिल अपना देता है?

क्यों दिल को लगाकर गले से मानव उसे जाने नहीं देता?

क्या मानव का दिल शांति और ख़ुशी सुनिश्चित करता है?

2

मानव की धार्मिकता बिना स्वरूप है।

उसे ना ही छुआ और ना ही देखा जा सकता है।

मानव शरीर में, सबसे कीमती हिस्सा है

एक चीज़ जो ईश्वर चाहता है, वो है मानव का कीमती दिल।

क्या ईश्वर के कार्य प्रतिफल के योग्य नहीं?

क्यों नहीं मानव उसे दिल अपना देता है?

क्यों दिल को लगाकर गले से मानव उसे जाने नहीं देता?

क्या मानव का दिल शांति और ख़ुशी सुनिश्चित करता है?

3

क्यों जब ईश्वर लोगों से मांग करता है,

मुट्ठीभर धूल उसकी ओर वे उड़ाते हैं?

क्या यह मानव की साज़िश है, मानव की साज़िश है?

क्या ईश्वर के कार्य प्रतिफल के योग्य नहीं?

क्यों नहीं मानव उसे दिल अपना देता है?

क्यों दिल को लगाकर गले से मानव उसे जाने नहीं देता?

क्या मानव का दिल शांति और ख़ुशी सुनिश्चित करता है?

क्या मानव का दिल शांति और ख़ुशी सुनिश्चित करता है?

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'संपूर्ण ब्रह्मांड के लिए परमेश्वर के वचन' के 'अध्याय 36' से रूपांतरित

पिछला: 328 इंसान ने ईश्वर को अपना दिल नहीं दिया है

अगला: 330 क्या अपने लिये परमेश्वर की आशाओं को महसूस किया है तुम लोगों ने?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें