869 मनुष्य को बचाने को परमेश्वर बड़े कष्ट सहता है

1

अरसों पहले इस जगत में आया ईश्वर, और दर्द सहे इंसानों के ही जैसे।

फिर सालों तक रहा इन्हीं इंसानों के संग,

पर उसकी मौजूदगी न जान पाया कोई।

खामोशी से सहे हैं दर्द इस दुनिया के, निभाते हुए जो काम उसका था।

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए,

सहा है दर्द जो इंसान ने देखा नहीं,

बिन कुछ कहे की सेवा विनम्रता से,

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए।

2

परमेश्वर के काम की ज़रूरत है कि वो करे, कहे खुद ही,

क्योंकि इंसान उसे मदद कर सकता ही नहीं,

परमेश्वर ने सहे बहुत दर्द अपने कामों के लिए।

इंसान उसकी जगह ले सकता नहीं।

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए,

सहा है दर्द जो इंसान ने देखा नहीं,

बिन कुछ कहे की सेवा विनम्रता से,

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए।

3

अनुग्रह के युग से बड़े जोखिम उठा के

आया परमेश्वर वहाँ जहाँ लाल अजगर रहे,

बेचारे इंसानों को बचाने में अपनी परवाह और सोच लगाए हुए।

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए,

सहा है दर्द जो इंसान ने देखा नहीं,

बिन कुछ कहे की सेवा विनम्रता से,

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए।

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए,

सहा है दर्द जो इंसान ने देखा नहीं,

बिन कुछ कहे की सेवा विनम्रता से,

मर्ज़ी ईश-पिता की और इंसानियत के लिए।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'कार्य और प्रवेश' से रूपांतरित

पिछला: 868 इंसान को बचाने के लिये ख़ामोशी से कार्य करता है देहधारी परमेश्वर

अगला: 870 परमेश्वर मनुष्य के उद्धार के लिए भयंकर कष्ट सहता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें