89 परमेश्वर की मनोहरता सदा हमारे दिल में है

1

परमेश्वर के वचन बढ़ते हैं बिजली की तरह।

यह मनुष्य का पुत्र है जो बोलता है,

छूता है अनगिनत उत्साही दिल,

हमें परमेश्वर के पास खींचता है, खींचता है।

हम खाते-पीते हैं परमेश्वर के वचन, सत्य जानकर,

सदा उसके प्रेम का आनंद लेते हुए, प्रतिदिन उसके प्रेम का आनंद लेते हुए।

उन वचनों द्वारा हम सिंचन, पोषण पाते, जीवन में बढ़ते हैं।

परमेश्वर के वचनों के न्याय और परीक्षण से,

हमारे भ्रष्ट स्वभाव स्वच्छ किए जाते हैं।


मैं देखता परमेश्वर की धार्मिकता, स्वाद लेता उसकी कृपा का।

परमेश्वर की सुंदरता सदा मेरे दिल में है।

मैं देखता परमेश्वर की धार्मिकता, स्वाद लेता उसकी कृपा का।

परमेश्वर की सुंदरता सदा मेरे दिल में है।


2

परमेश्वर के वचन इंसान के दिल में जड़ें जमाए हैं,

हमारे दिल उसके करीब बढ़ते हैं।

उसके वचन हमें मुश्किलों और परीक्षणों के दौरान राह दिखाते हैं।

हम परमेश्वर का नजदीक से अनुसरण करते हैं, कभी हार नहीं मानते।

जब हम कमजोरी, पीड़ा और नकारात्मकता का सामना करते हैं,

पोषण, सहारे और प्रेरणा के लिए उसके वचन हमारे पास हैं।

परमेश्वर के शुद्धिकरण को सहने से हमारी आस्था पूर्ण की गई है।

हमने परमेश्वर के साथ शैतान को हरा दिया है, हम विजयी हुए हैं।


परमेश्वर के वचन सत्य और प्रकाश हैं,

वे हमें आँधी-बारिश में राह दिखाते हैं।

परमेश्वर की सुंदरता सदा मेरे दिल में है।

मुश्किलों और परीक्षणों में परमेश्वर के लिए हमारा प्रेम मजबूत होता है।

परमेश्वर की सुंदरता सदा मेरे दिल में है।


मैं देखता परमेश्वर की धार्मिकता, स्वाद लेता उसकी कृपा का।

परमेश्वर की सुंदरता सदा मेरे दिल में है।

मैं देखता परमेश्वर की धार्मिकता, स्वाद लेता उसकी कृपा का।

परमेश्वर की सुंदरता सदा मेरे दिल में है।

पिछला: 88 परमेश्वर का प्रेम सच्चा और असली है

अगला: 90 परमेश्वर का प्रेम सबसे सच्चा है

परमेश्वर का आशीष आपके पास आएगा! हमसे संपर्क करने के लिए बटन पर क्लिक करके, आपको प्रभु की वापसी का शुभ समाचार मिलेगा, और 2024 में उनका स्वागत करने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें