248 परमेश्वर का सच्चा प्रेम

1

मैं बहुत बार मायूस हुई

अपना सम्मान गँवाने पर रोई।

जब परीक्षणों ने उजागर किया मुझे,

तब अपने भविष्य की चिंता हुई,

और अपने, दुःख से, घिर गयी।

बहुत बार, ज़िद की, विद्रोह किया,

ईश-न्याय से भागने का प्रयास किया;

मेरे ज़मीर ने धिक्कारा न मुझे।

कई बार संकल्प किया प्रायश्चित का,

मगर फिर बुराई की, पाप किया।

हे ईश्वर, तेरे न्याय-वचन दिखाएँ बदसूरती मेरी,

मैं साफ़ देखूँ अपनी भ्रष्टता।

न मुँह छिपाने को जगह कोई।

2

तेरे हाथों बचाए जाने की मुझे कोई उम्मीद न थी

पर तेरे वचनों से मेरी ग़लतफ़हमी दूर हुई।

मैं कई बार शैतान के लालच में फँसी,

मगर तूने चुपके से नज़र रखी, मेरी रक्षा की।

मेरी ग़लतफ़हमियों, विरोध के बावजूद,

तूने धैर्य और दया दिखायी।

तूने मेरे अपराधों को कभी याद न किया;

मुझे प्रायश्चित का मौका दिया।

हे ईश्वर, मैं नीच हूँ, तुच्छ हूँ,

फिर भी तू परवाह करे मेरी।

गर तेरा प्रेम चुका न पाऊँ, तो क्या इंसान कहलाऊँ?

3

तेरे न्याय, परीक्षण, अनुशासन से,

आख़िरकार मैं तेरे प्यार को जान सकूँ।

तेरे शोधन की पीड़ा तो होती है,

पर मेरी भ्रष्टता शुद्ध हो रही है।

तेरा आज्ञापालन और सत्य पर अमल कर,

मिलता मुझे चैन और सुकून।

तेरा भय मानने, और बुराई को नकारने,

तेरे वचनों पर जीने से मिले ख़ुशी मुझे।

हे ईश्वर, तेरा न्याय प्रेम है।

इसने तेरा उद्धार पाने के काबिल बनाया मुझे।

तेरे प्यार का अनुभव कर लिया

तुझे प्रेम और तेरा आज्ञापालन करना सदा चाहूँ।

पिछला: 247 हे परमेश्वर! मेरा दिल पहले से ही तेरा है

अगला: 249 परमेश्वर ने मुझे बहुत प्रेम दिया है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें