617 मनुष्यों के लिए परमेश्वर का अनुस्मारक

परमेश्वर ज़रूरतमंदों को धूल से उठाता है,

विनीत लोगों को ऊँचा बनाता है।

1

विश्वव्यापी कलीसिया का संचालन करने को,

लोगों और देशों का संचालन करने को,

परमेश्वर अपनी बुद्धि के हर रूप को उपयोग में लायेगा।

जो नहीं थे पहले आज्ञाकारी, उन्हें आज्ञाकारिता अब दिखानी होगी।

सब होंगे उसके भीतर समर्पण में। सब होंगे उसके भीतर समर्पण में।

2

तुम्हें प्रेम और समर्पण करना होगा, जीवन में परस्पर जुड़ना होगा।

एक-दूसरे के गुणों का उपयोग करना होगा,

सामंजस्य में सेवा करनी होगी, धैर्य रखना होगा।

तब शैतान की चालें कामयाब न होंगी, कलीसिया का उत्तम निर्माण होगा।

इस तरह परमेश्वर की योजना पूरी होगी।

परमेश्वर के पास एक अनुस्मारक है मानव के लिए, मानव के लिए।

3

कार्य हों अलग भले ही, देह तो एक ही है।

कर्तव्य निभाते हुए हरएक को देना चाहिए अपना श्रेष्ठ ही।

सभी हों एक चिंगारी, दें जो अपनी रोशनी,

जीवन में परिपक्वता खोजो, होगी परमेश्वर को संतुष्टि।

कोई है फ़लां ढंग का, कोई फ़लां काम करता है,

इस कारण गलतफहमी आने न दो, इस कारण आत्मा में पतित ना बनो,

परमेश्वर की नजरों में ये उचित नहीं है,

परमेश्वर की नजरों में इसका कोई मोल नहीं है।

तुम जिसे मानते हो वो परमेश्वर है, न कि ऐसा वैसा कोई इन्सान।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'आरंभ में मसीह के कथन' के 'अध्याय 21' से रूपांतरित

पिछला: 616 दो सिद्धांत जिन्हें अगुवाओं और कर्मियों को अवश्य ग्रहण करना चाहिए

अगला: 618 उस तरह सेवा करो जैसे इस्राएलियों ने की

सभी विश्वासी यीशु मसीह की वापसी के लिए तरस रहे हैं। क्या आप उनमें से एक हैं? हमारी ऑनलाइन सहभागिता में शामिल हों और आपको परमेश्वर से फिर से मिलने का अवसर मिलेगा।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें