प्रश्न 4: इन्होंने कहा कि किताब परमेश्वर का नया वचन है! प्रकाशित वाक्य में स्पष्ट कहा गया है: "मैं हर एक को, जो इस पुस्तक की भविष्यद्वाणी की बातें सुनता है, गवाही देता हूँ: यदि कोई मनुष्य इन बातों में कुछ बढ़ाए तो परमेश्‍वर उन विपत्तियों को, जो इस पुस्तक में लिखी हैं, उस पर बढ़ाएगा" (प्रकाशितवाक्य 22:18)। इनकी बातें बाइबल के अलावा हैं।

उत्तर: "आज्ञा में न तो कुछ बढ़ाना, और न कुछ घटाना" जैसे कि धर्मग्रंथों में कहा गया है। आपको लगता है कि हम बाइबल में जोड़ रहे हैं। तो फिर आइए, समस्या की खोजबीन करें। भाइयो और बहनो, यूहन्ना ने कहा था "यदि कोई मनुष्य इन बातों में कुछ बढ़ाए," लेकिन यह नहीं कहा, "यदि कोई मनुष्य बाइबल में कुछ बढ़ाए," इसके अलावा, जब यूहन्ना ने ये वचन कहे थे, तब नया नियम था ही नहीं। नया नियम 300 ईसवी के आसपास तैयार हुआ। प्रकाशित वाक्य 90 ईसवी के बाद तैयार हुआ; यह पतामोस के द्वीप पर यूहन्ना की दृष्टि का दस्तावेज था। साफ़ तौर पर, यूहन्ना के कहे अनुसार यह किताब प्रकाशित वाक्य की किताब से भविष्यवाणियों की इबारत के बारे में है, पूरी बाइबल के बारे में नहीं। इसलिए, "आज्ञा में न तो कुछ बढ़ाना" का मतलब यह नहीं है कि भविष्य में परमेश्वर का नया कार्य और वचन नहीं होंगे। यूहन्ना ने जो देखा वह सिर्फ एक दृष्टि थी और परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य की वास्तविकता नहीं थी। सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों के कार्य और वचन प्रकाशित वाक्य की किताब की भविष्यवाणियों के अलावा नहीं हैं, बल्कि प्रकाशित वाक्य की किताब की भविष्यवाणियों का साकार होना हैं। आइए, बाइबल के दो अंशों पर गौर करें। प्रकाशित वाक्य 2:17 में कहा गया है: "जिसके कान हों वह सुन ले कि आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है। जो जय पाए, उस को मैं गुप्‍त मन्ना में से दूँगा …" धर्मग्रंथों के इस भाग में कहा गया है: "आत्मा कलीसियाओं से क्या कहता है" और "गुप्‍त मन्ना।" ये दरअसल सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अंत के दिनों में व्यक्त वचनों के बारे में हैं! साथ ही प्रकाशित वाक्य 5:1-5 भी है। "जो सिंहासन पर बैठा था, मैं ने उसके दाहिने हाथ में एक पुस्तक देखी जो भीतर और बाहर लिखी हुई थी, और वह सात मुहर लगाकर बन्द की गई थी। फिर मैं ने एक बलवन्त स्वर्गदूत को देखा जो ऊँचे शब्द से यह प्रचार करता था, 'इस पुस्तक के खोलने और उसकी मुहरें तोड़ने के योग्य कौन है?' परन्तु न स्वर्ग में, न पृथ्वी पर, न पृथ्वी के नीचे कोई उस पुस्तक को खोलने या उस पर दृष्‍टि डालने के योग्य निकला। तब मैं फूट फूटकर रोने लगा, क्योंकि उस पुस्तक के खोलने या उस पर दृष्‍टि डालने के योग्य कोई न मिला। इस पर उन प्राचीनों में से एक ने मुझ से कहा, 'मत रो; देख, यहूदा के गोत्र का वह सिंह जो दाऊद का मूल है, उस पुस्तक को खोलने और उसकी सातों मुहरें तोड़ने के लिये जयवन्त हुआ है।'" हम सबने सोचा था कि किताब बाइबल का संदर्भ दे रही है, लेकिन धर्मग्रंथ के इस भाग में कहा गया है कि इस किताब पर किसी ने गौर नहीं किया। यह दर्शाता है कि यह किताब बाइबल को लेकर नहीं है। धर्मग्रंथों में कहा गया है: "जो सिंहासन पर बैठा था, मैं ने उसके दाहिने हाथ में एक पुस्तक देखी जो भीतर और बाहर लिखी हुई थी, और वह सात मुहर लगाकर बन्द की गई थी" (प्रकाशितवाक्य 5:1)। इससे पता चलता है कि इस किताब की विषयवस्तु प्रकाशित वाक्य की किताब में दर्ज नहीं की गयी थी। यह आयत हमें बताती है कि सिर्फ अंत के दिनों के मसीह ही इस किताब को खोलने और सात मुहरों को ढीला करने के काबिल हैं।

यूहन्ना ने सातों गर्जन के कथनों के बारे में भी नहीं लिखा था, जिसके बारे में प्रकाशित वाक्य की किताब में लिखा गया है। इससे पता चलता है कि हमें परमेश्वर के अंत के दिनों में आने का इंतजार करना होगा कि वे हमारे सामने इन रहस्यों का खुलासा करें। अगर हम "आज्ञा में न तो कुछ बढ़ाना" का उपयोग परमेश्वर के कार्य और वचन को सीमित करने के लिए करेंगे, तो फिर वह किताब कैसे खुल पायेगी? प्रकाशित वाक्य की किताब की भविष्यवाणियाँ कैसे साकार हो पायेंगी? सर्वशक्तिमान परमेश्वर अब आ चुके हैं, और सात मुहरों और किताब को खोल कर, उन सभी रहस्यों को प्रकट कर दिया है जो लोग युग-युग से समझ नहीं पाये थे। बिल्कुल यही सातों गर्जनाओं के कथनों और पवित्र आत्मा द्वारा कलीसियाओं के लिए बोले गये वचन हैं। यह सच्चा है! तो आइए, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचन के एक और अंश को पढ़ें! "जब तुम इस पुस्तक को पूरा पढ़ लोगे, जब तुम राज्य के युग में देहधारी परमेश्वर के कार्य के प्रत्येक चरण का अनुभव कर लोगे, तब तुम महसूस करोगे कि अनेक वर्षों की तुम्हारी आशाएँ अंततः साकार हो गई हैं। तुम महसूस करोगे कि केवल अब तुमने परमेश्वर को वास्तव में आमने-सामने देखा है; केवल अब तुमने परमेश्वर के चेहरे को निहारा है, उसके व्यक्तिगत कथन सुने हैं, उसके कार्य की बुद्धिमत्ता को सराहा है, और वास्तव में महसूस किया है कितना वास्तविक और सर्वशक्तिमान है वह। तुम महसूस करोगे कि तुमने ऐसी बहुत-सी चीजें पाई हैं, जिन्हें अतीत में लोगों ने न कभी देखा था, न ही धारण किया था। इस समय, तुम स्पष्ट रूप से जान लोगे कि परमेश्वर पर विश्वास करना क्या होता है, और परमेश्वर के इच्छा के अनुरूप होना क्या होता है। निस्संदेह, यदि तुम अतीत के विचारों से चिपके रहते हो, और परमेश्वर के दूसरे देहधारण के तथ्य को अस्वीकार या उससे इनकार करते हो, तो तुम खाली हाथ रहोगे और कुछ नहीं पाओगे, और अंततः परमेश्वर का विरोध करने के दोषी ठहराए जाओगे। वे जो सत्य का पालन करते हैं और परमेश्वर के कार्य के प्रति समर्पण करते हैं, उनका दूसरे देहधारी परमेश्वर—सर्वशक्तिमान—के नाम पर दावा किया जाएगा। वे परमेश्वर का व्यक्तिगत मार्गदर्शन स्वीकार करने में सक्षम होंगे, वे अधिक और उच्चतर सत्य तथा वास्तविक मानव-जीवन प्राप्त करेंगे। वे उस दर्शन को निहारेंगे, जिसे अतीत के लोगों द्वारा पहले कभी नहीं देखा गया था : 'तब मैं ने उसे, जो मुझ से बोल रहा था, देखने के लिये अपना मुँह फेरा; और पीछे घूमकर मैं ने सोने की सात दीवटें देखीं, और उन दीवटों के बीच में मनुष्य के पुत्र सदृश एक पुरुष को देखा, जो पाँवों तक का वस्त्र पहिने, और छाती पर सोने का पटुका बाँधे हुए था। उसके सिर और बाल श्‍वेत ऊन वरन् पाले के समान उज्ज्वल थे, और उसकी आँखें आग की ज्वाला के समान थीं। उसके पाँव उत्तम पीतल के समान थे जो मानो भट्ठी में तपाया गया हो, और उसका शब्द बहुत जल के शब्द के समान था। वह अपने दाहिने हाथ में सात तारे लिये हुए था, और उसके मुख से तेज दोधारी तलवार निकलती थी। उसका मुँह ऐसा प्रज्‍वलित था, जैसा सूर्य कड़ी धूप के समय चमकता है' (प्रकाशितवाक्य 1:12-16)। यह दृश्य परमेश्वर के संपूर्ण स्वभाव की अभिव्यक्ति है, और उसके संपूर्ण स्वभाव की यह अभिव्यक्ति वर्तमान देहधारण में परमेश्वर के कार्य की अभिव्यक्ति भी है। ताड़ना और न्याय की बौछारों में मनुष्य का पुत्र कथनों के माध्यम से अपने अंर्तनिहित स्वभाव को अभिव्यक्त करता है, और उन सबको जो उसकी ताड़ना और न्याय स्वीकार करते हैं, मनुष्य के पुत्र के वास्तविक चेहरे को निहारने की अनुमति देता है, जो यूहन्ना द्वारा देखे गए मनुष्य के पुत्र के चेहरे का ईमानदार चित्रण है" ("वचन देह में प्रकट होता है" की 'प्रस्तावना')।

"बाइबल के बारे में रहस्य का खुलासा" फ़िल्म की स्क्रिप्ट से लिया गया अंश

पिछला: प्रश्न 3: प्रभु यीशु ने खुद कहा था कि बाइबल उनकी गवाही है। इसीलिए प्रभु में हमारी आस्था की बुनियाद बाइबल ही होनी चाहिए। प्रभु को जानने का हमारा एकमात्र मार्ग बाइबल ही है।

अगला: प्रश्न 5: 2 तीमुथियुस 3:16 में पौलुस ने कहा था: "सम्पूर्ण पवित्रशास्त्र परमेश्‍वर की प्रेरणा से रचा गया है …" यह दर्शाता है कि बाइबल की हर चीज़ परमेश्वर का वचन है। लेकिन ऐसे लोग भी हैं जो कहते हैं कि बाइबल की हर चीज़ परमेश्वर का वचन नहीं है। क्या यह बाइबल को नकारना और लोगों को धोखा देना नहीं है?

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।
WhatsApp पर हमसे संपर्क करें
Messenger पर हमसे संपर्क करें

संबंधित सामग्री

1. न्याय क्या है?

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:न्याय का कार्य परमेश्वर का अपना कार्य है, इसलिए स्वाभाविक रूप से इसे परमेश्वर द्वारा ही किया जाना चाहिए; उसकी जगह...

16. मसीह-विरोधी किसे कहते हैं? एक मसीह-विरोधी को कैसे पहचाना जा सकता है?

परमेश्वर के प्रासंगिक वचन:उन दिनों में, जब परमेश्वर ने देहधारण नहीं किया था, तब क्या किसी मनुष्य ने परमेश्वर का विरोध किया है इसका मापन इस...

प्रश्न 27: बाइबल ईसाई धर्म का अधिनियम है और जो लोग प्रभु में विश्वास करते हैं, उन्होंने दो हजार वर्षों से बाइबल के अनुसार ऐसा विश्वास किया हैं। इसके अलावा, धार्मिक दुनिया में अधिकांश लोग मानते हैं कि बाइबल प्रभु का प्रतिनिधित्व करती है, कि प्रभु में विश्वास बाइबल में विश्वास है, और बाइबल में विश्वास प्रभु में विश्वास है, और यदि कोई बाइबल से भटक जाता है तो उसे विश्वासी नहीं कहा जा सकता। क्या मैं पूछ सकता हूँ कि इस तरीके से प्रभु पर विश्वास करना प्रभु की इच्छा के अनुरूप है या नहीं?

उत्तर:बहुत से लोगों का विश्वास है कि बाइबल प्रभु की प्रतिनिधि है, परमेश्वर की प्रतिनिधि है और प्रभु में विश्वास करने का अर्थ बाइबल में...

2. धार्मिक दुनिया ने क्यों हमेशा मसीह को नकारा और अस्वीकार किया है और उसकी निंदा की है

संदर्भ के लिए बाइबल के पद:"इस पर प्रधान याजकों और फरीसियों ने महासभा बुलाई, और कहा, 'हम करते क्या हैं? यह मनुष्य तो बहुत चिह्न दिखाता है।...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर उपदेश और वार्तालाप अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें