857 मानवजाति के प्रति परमेश्वर की करुणा निरंतर बहती है

"तब यहोवा ने कहा, 'जिस रेंड़ के पेड़ के लिये

तू ने कुछ परिश्रम नहीं किया, न उसको बढ़ाया,

जो एक ही रात में हुआ, और एक ही रात में नष्‍ट भी हुआ;

उस पर तू ने तरस खाई है।

फिर यह बड़ा नगर नीनवे,

जिसमें एक लाख बीस हज़ार से अधिक मनुष्य हैं

जो अपने दाहिने बाएँ हाथों का भेद नहीं पहिचानते,

और बहुत से घरेलू पशु भी उसमें रहते हैं,

तो क्या मैं उस पर तरस न खाऊँ?'"

1

"सृष्टिकर्ता की करुणा" कोई खाली जुमला नहीं है, न ही खोखला वादा है।

इसमें सिद्धांत और उद्देश्य हैं,

ये है सच्ची और वास्तविक बिन किसी भेस के।

उसकी दया बिन रुके मानव जाति को प्रदान की जाती है।

पर योना के साथ सृष्टिकर्ता का वचन

उसका विशिष्ट कथन दर्शाता है, क्यों वो दयालु है,

और कैसे वो दया दिखाता है,

वो मानवता के प्रति कितना सहनशील है,

और मानव के प्रति उसकी सच्ची भावना को।

ईश्वर का क्रोध अक्सर मानव पर उतरता है,

पर उसकी दया कभी न ख़त्म होती है।

करुणा से, वो मानव का मार्गदर्शन, अगुवाई, आपूर्ति और पोषण करता है,

पीढ़ी दर पीढ़ी, एक युग से अगले युग तक।

उसका मानव के प्रति प्यार नहीं बदलता है, उसका प्यार कभी न बदलेगा!

उसका मानव के प्रति प्यार नहीं बदलता है, उसका प्यार कभी न बदलेगा!

2

यहोवा परमेश्वर का वार्तालाप

दर्शाता है मानव के लिए उसके सम्पूर्ण विचार को,

वो है उसके दिल की एक अभिव्यक्ति और

मानव के लिए अपार करुणा का सबूत है।

उसकी दया केवल पुरखों के लिए नहीं बल्कि युवा वर्ग के लिए भी है,

हमेशा की तरह ये पीढ़ी दर पीढ़ी रहेगा।

ईश्वर का क्रोध अक्सर मानव पर उतरता है,

पर उसकी दया कभी न ख़त्म होती है।

करुणा से, वो मानव का मार्गदर्शन, अगुवाई, आपूर्ति और पोषण करता है,

पीढ़ी दर पीढ़ी, एक युग से अगले युग तक।

उसका मानव के प्रति प्यार नहीं बदलता है, उसका प्यार कभी न बदलेगा!

ईश्वर का क्रोध अक्सर मानव पर उतरता है,

पर उसकी दया कभी न ख़त्म होती है।

करुणा से, वो मानव का मार्गदर्शन, अगुवाई, आपूर्ति और पोषण करता है,

पीढ़ी दर पीढ़ी, एक युग से अगले युग तक।

उसका मानव के प्रति प्यार नहीं बदलता है, उसका प्यार कभी न बदलेगा!

उसका मानव के प्रति प्यार नहीं बदलता है, उसका प्यार कभी न बदलेगा!

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II' से रूपांतरित

पिछला: 856 मानवजाति पर परमेश्वर की दया

अगला: 858 सृष्टिकर्त्ता की सच्ची भावनाएँ मानवता के लिये

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें