98 परमेश्वर के प्रेम का गुणगान हो हमेशा

1

बड़े अपमान को सहते हुए तुम किसकी मांग करते हो?

तुम किसके लिए मेहनत और फ़िक्र करते हो?

परमेश्वर की इच्छा पूरी करने के लिए यहां-वहां दौड़ते हुए,

तुम सिर्फ़ इस काम के बारे में सोचते हो।

शेर की गुफ़ा में इंसान को बचाने के लिए तुम सत्य व्यक्त करते हो,

चुपचाप अस्वीकृति और निंदा सहन करते हो।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

2

विनम्रता से, छिपकर, बोलते और काम करते हो,

तुम कभी दिखावा नहीं करते हो।

लोगों के लिए एक उदाहरण, तुम संग पीड़ा सहते हो,

बिना शिकायत या अफ़सोस, इंसान के बीच दर्द का स्वाद चखते हो।

तुम मानव जाति को अनन्त जीवन की राह देते हो।

तुम्हारे वचन और काम प्यार प्रकट करते हैं।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

3

इंसान को शुद्ध करने और बचाने के लिए

तुमने सहे सभी दर्द, चुकाई हर क़ीमत।

इंसानी दुनिया की मुश्किलों का अनुभव तुम करते हो।

तब तक बड़ी मेहनत से कोशिशें करते हो तुम

जब तक तुम्हारे दिल के टुकड़े न हो जाते हैं।

युग ने तुम्हें त्याग दिया, सहा है बहुत अपमान तुमने।

इंसान को बचाने के लिए अत्यंत मुश्किलों का सामना किया है तुमने।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

4

इंसान है अहंकारी और विद्रोही, अक्सर देता है तुम्हें तकलीफ़।

धैर्य और सहिष्णुता के साथ,

उसे बचाने के लिए सभी कोशिशें तुम करते हो।

अपना सिर रखने के लिए कोई जगह नहीं,

फिर भी इंसान की देखभाल तुम करते हो।

तुम्हारे वचन लोगों का सिंचन और पोषण करते हैं,

उन्हें बार-बार प्रोत्साहित करते हैं,

ताकि इंसान को मिल सके जीवन, एक अच्छी मंज़िल।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

हां, तुम्हारे प्यार का हमेशा हो गुणगान।

पिछला: 97 परमेश्वर अब तक कार्य कर रहा है, फिर भी तुम अभी भी समझते क्यों नहीं हो?

अगला: 99 इंसानों के बीच सच्चा प्रेम

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें