951 परमेश्वर का स्वभाव अपमान सहता नहीं

1

मानवता को पहले जानना चाहिए

स्वभाव को जो सिर्फ है परमेश्वर के पास।

यानी कि, कोई गुनाह न सहना।

न कोई दे सके दखल, न प्रभावित कर सके।

ये सबकी कल्पना से परे है,

न प्रतिरूपित हो सके, न नकल की जा सके।

परमेश्वर किसी को भी नहीं सहेगा जो उसका खुलकर विरोध करे,

चाहे हों वे सृजे हुये प्राणी या न हों, चाहे हों चुनिन्दा या दया के पात्र हों।

एक बार वे उसके स्वभाव को जब क्रोधित करें,

या तोड़े उसके धैर्य के सिद्धान्त को,

परमेश्वर प्रकट करेगा अपना स्वभाव,

जो धार्मिक है, और जो सहे न कोई अपमान।

2

परमेश्वर का है ये स्वभाव उसके पवित्र और निर्मल सार की वजह से।

वो नफरत करता है पापों से जो विरोध करे।

वो नफरत करता है नाफ़रमानी से,

और शैतान के बुराई द्वारा मानव को भ्रष्ट करने से।

वो तिरस्कार करता है दुष्टता और अंधेरे का।

परमेश्वर किसी को भी नहीं सहेगा जो उसका खुलकर विरोध करे,

चाहे हों वे सृजे हुये प्राणी या न हों, चाहे हों चुनिन्दा या दया के पात्र हों।

एक बार वे उसके स्वभाव को जब क्रोधित करें,

या तोड़े उसके धैर्य के सिद्धान्त को,

परमेश्वर प्रकट करेगा अपना स्वभाव,

जो धार्मिक है, और जो सहे न कोई अपमान।

परमेश्वर किसी को भी नहीं सहेगा जो उसका खुलकर विरोध करे,

चाहे हों वे सृजे हुये प्राणी या न हों, चाहे हों चुनिन्दा या दया के पात्र हों।

एक बार वे उसके स्वभाव को जब क्रोधित करें,

या तोड़े उसके धैर्य के सिद्धान्त को,

परमेश्वर प्रकट करेगा अपना स्वभाव,

जो धार्मिक है, और जो सहे न कोई अपमान।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'स्वयं परमेश्वर, जो अद्वितीय है II' से रूपांतरित

पिछला: 950 गरिमामय है सार परमेश्वर का

अगला: 952 इंसान का विद्रोह जगाता है परमेश्वर के क्रोध को

2022 के लिए एक खास तोहफा—प्रभु के आगमन का स्वागत करने और आपदाओं के दौरान परमेश्वर की सुरक्षा पाने का मौका। क्या आप अपने परिवार के साथ यह विशेष आशीष पाना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें