216 हे परमेश्वर, मैं तुझे छोड़ नहीं सकती

1

परमेश्वर के वचन के बिना, मैं पानी में तैरती घास-पत्तियों की तरह लंगरविहीन हूँ।

बिन परमेश्वर, मैं पीड़ा और ख़ालीपन महसूस करती हूँ।

आत्म-चिंतन के द्वारा, मैं देखती हूँ कि मैंने परमेश्वर में कई सालों तक विश्वास रखते हुए भी मैंने कभी सत्य का अनुसरण नहीं किया।

मन में बस भविष्य की संभावनाएँ और मंज़िल को ध्यान में रखे, 

मैं बस आशीष पाने के लिए काम और मेहनत करती रही, कभी परमेश्वर से सच में प्रेम नहीं किया।

वो मुझसे घृणा और नफरत करता है; मैं अंधकार और चरम पीड़ा में गिर गयी हूँ।

याचना के शब्द परमेश्वर को मेरे पास वापस नहीं ला सकते।

परमेश्वर-भीरू हृदय के बिना, मैं परमेश्वर के सामने जीने के लायक नहीं हूँ।

मैं परमेश्वर की उदारता का हिसाब लगाती हूँ, आत्म-मंथन करती हूँ और स्वयं को परमेश्वर के प्रति ऋणी महसूस करती हूँ।


2 

न्याय के ज़रिये, मुझे अपनी भ्रष्टता का सत्य स्पष्ट दिखाई देता है।

मैं आत्माभिमानी, कुटिल और कपटी हूँ, यहाँ तक कि मैंने परमेश्वर के साथ सौदा किया।

मैंने यह भी सोचा कि त्याग करने और खपाने से मैं उसका आशीष पाऊँगी।

मेरे अपनी धारणाओं से चिपके रहने ने एक त्रासदी को जन्म दे दिया।

अनेक शुद्धिकरण से गुज़रने पर, मुझे एहसास हुआ कि परमेश्वर का धार्मिक स्वभाव कोई अपराध बर्दाश्त नहीं करता।

मेरा दिल उसके प्रति श्रद्धानत है, मुझे स्वयं से घृणा हो गई, मैं सचमुच पश्चाताप करती हूँ।

मैं देखती हूँ कि परमेश्वर का न्याय केवल प्रेम और उद्धार है।

उसका प्रतिदान देने के लिये मैंने सत्य का अभ्यास करने और अपना कर्तव्य निभाने का संकल्प लिया है।

मैं एक ईमानदार इंसान बनना, सच में परमेश्वर से प्रेम करना और उसे सुकून देना चाहती हूँ।

पिछला: 215 मोआब के वंशजों की ओर से परमेश्वर की स्तुति

अगला: 217 मैं पछतावे से भरा हूँ

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

Iसमझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग,सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के लिए...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें