876 परमेश्वर द्वारा मनुष्य की पीड़ा को अनुभव किये जाने का गहरा अर्थ है

1 परमेश्वर के देहधारणों के कार्य के दो चरण इस तरीके से बिलकुल सही हैं; अर्थात पहले देहधारण से लेकर इस देहधारण तक, इन दो चरणों में किये गए कार्य ने मनुष्य के जीवन की समस्त पीड़ा का समाधान कर दिया है। यह कार्य करने के लिए परमेश्वर का स्वयं देहधारण करना क्यों आवश्यक है? मनुष्य के पूरे जीवन में मौजूद जन्म, मृत्यु, बीमारी और वृद्धावस्था की पीड़ा कहाँ से आई? सबसे पहले किस वजह से लोगों को ये चीज़े हुईं? क्या जब मनुष्य को पहली बार सृजित किया गया था तब उसमें ये चीजें थीं? वे नहीं थीं, है ना? तो ये चीज़ें कहाँ से आईं? जैसे कि देह की पीड़ा, देह की परेशानियाँ और खोखलापन और दुनिया की चरम दुर्दशा। शैतान ने मनुष्य को भ्रष्ट करने के बाद उसे यंत्रणा देनी आरम्भ कर दी।

2 तब मनुष्य अधिकाधिक अपभ्रष्ट हो गया, मनुष्य की बीमारियाँ गहरी हो गईं, और उसका कष्ट अधिकाधिक गंभीर हो गया। मनुष्य दुनिया में अधिकाधिक खोखलापन, त्रासदी और जीवित रहने में असमर्थता महसूस करने लगा, और दुनिया के लिए कम से कमतर आशा महसूस करने लगा। इस प्रकार यह दुःख मनुष्य पर शैतान द्वारा लाया गया था, और यह केवल तब आया जब मनुष्य शैतान के द्वारा भ्रष्ट कर दिया गया था और मनुष्य का देह अपभ्रष्ट हो गया था। कि यह पीड़ा अभी भी शैतान के स्वामित्व के अधीन है; यह मनुष्य की घातक कमज़ोरियों में से एक है। शैतान अभी भी उन चीज़ों का उपयोग करने में सक्षम है जिन्हें इसने भ्रष्ट किया और रौंदा है—ये वे हथियार हैं जिन्हें शैतान मनुष्यों के विरुद्ध उपयोग कर सकता है।

3 इसलिये, अंत के दिनों में न्याय का कार्य करने के लिये परमेश्वर ने फिर से देहधारण किया है और जीतने का कार्य पूरा करने के लिये उसे मानवजाति की ओर से पीड़ा सहन करनी होगी। देहधारी परमेश्वर पीड़ा सहन करने के द्वारा मूल्य अदा करके, मानवजाति की घातक कमज़ोरी का समाधान करेगा। मानवीय पीड़ा का स्वाद चखकर मनुष्य को वापस अपने पास लाने के बाद, शैतान के पास अब ऐसा कुछ भी नहीं होगा जिसे वह मनुष्य के ख़िलाफ़ इस्तेमाल कर सके और इस तरह मानवजाति पूरी तरह से परमेश्वर की ओर मुड़ जाएगी। इसके बाद ही मनुष्यों को पूरी तरह से परमेश्वर का माना जा सकता है। इस प्रकार, देहधारी परमेश्वर का दुनिया भर की पीड़ा का अनुभव करना और मानवता की ओर से इस पीड़ा को सहन करना कोई अनावश्यक कार्य नहीं है; यह अत्यंत महत्वपूर्ण कार्य है।

— "मसीह की बातचीतों के अभिलेख" में "परमेश्वर के अनुभव करने के मायने" से रूपांतरित

पिछला: 875 परमेश्वर ने मनुष्य की ओर से कष्ट उठाने के लिए देहधारण किया है

अगला: 877 मनुष्य को बचाने के लिए परमेश्वर ज़बरदस्त अपमान सहता है

क्या आप जानना चाहते हैं कि सच्चा प्रायश्चित करके परमेश्वर की सुरक्षा कैसे प्राप्त करनी है? इसका तरीका खोजने के लिए हमारे ऑनलाइन समूह में शामिल हों।

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

Iपूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने,हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

वचन देह में प्रकट होता है न्याय परमेश्वर के घर से शुरू होता है अंत के दिनों के मसीह, सर्वशक्तिमान परमेश्वर के अत्यावश्यक वचन परमेश्वर के दैनिक वचन सर्वशक्तिमान परमेश्वर के वचनों का संकलन सत्य का अभ्यास करने के 170 सिद्धांत मेमने का अनुसरण करो और नए गीत गाओ जीवन में प्रवेश पर धर्मोपदेश और संगति अंत के दिनों के मसीह—उद्धारकर्ता का प्रकटन और कार्य राज्य का सुसमाचार फ़ैलाने के लिए दिशानिर्देश परमेश्वर की भेड़ें परमेश्वर की आवाज को सुनती हैं (नये विश्वासियों के लिए अनिवार्य चीजें) परमेश्वर की आवाज़ सुनो परमेश्वर के प्रकटन को देखो राज्य के सुसमाचार पर अत्यावश्यक प्रश्न और उत्तर (संकलन) मसीह के न्याय के आसन के समक्ष अनुभवों की गवाहियाँ विजेताओं की गवाहियाँ (खंड I) मैं वापस सर्वशक्तिमान परमेश्वर के पास कैसे गया

सेटिंग्स

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें