156 मसीह जो अभिव्यक्त करता है वो आत्मा है

1

मानव का सार जानता है देहधारी परमेश्वर,

प्रकट करता है वो सब जो लोग करते हैं,

मानव के भ्रष्ट स्वभाव, विद्रोही आचरण को,

और भी बेहतर प्रकट करता है।

वो नहीं रहता सांसारिक लोगों के साथ,

पर जानता है उनकी प्रकृति और भ्रष्टाचार।

ये उसका स्वरूप है।

हालांकि वो दुनिया के साथ व्यवहार नहीं करता,

फिर भी वो जानता है दुनिया से जुड़ने का हर एक नियम।

क्योंकि वो समझता है मानवजाति को, उसकी प्रकृति को पूर्ण रूप से।

2

आत्मा के वर्तमान और अतीत के कार्य के बारे में वो जानता है,

जो मानव की आँखें नहीं देख सकतीं,

जो मानव के कान नहीं सुन सकते हैं।

ये दर्शाता है चमत्कार जो मानव नहीं समझ सकता,

और बुद्धि जो फ़लसफ़ा नहीं है।

ये उसका स्वरूप है, मानव से छुपा और प्रकाशित भी।

उसकी अभिव्यक्ति किसी असाधारण मानव सी नहीं,

बल्कि अंतर्निहित अस्तित्व और आत्मा का गुण है।

3

वो दुनिया की यात्रा नहीं करता,

फिर भी इसके बारे में वो सब जानता है।

वो मिलता उनसे ज्ञान, अंतर्दृष्टि नहीं जिनमें,

फिर भी उसके वचन महान लोगों से ऊपर हैं।

वो नासमझ और सुन्न लोगों के बीच रहता है,

जो नहीं जानते मानव की परम्पराओं को या कैसे जीते हैं।

पर वो कह सकता है उन्हें सच्चा मानवीय जीवन जीने के लिए,

प्रकट करते हुए, वे कितने नीच, कितने अधम हैं!

ये उसका स्वरूप है, ख़ून और देह के लोगों से भी ऊँचा।

मानव का ख़ुलासा और न्याय करना उसके अनुभव से नहीं है।

जान कर, नफ़रत कर मानव की अवज्ञा से,

उनके अधर्म का वो प्रकाशन करता है।

उसका किया कार्य प्रकाशित करता है

उसका स्वभाव और अस्तित्व मानव के समक्ष।

मसीह को छोड़ कोई देह ऐसा कार्य नहीं कर सकता।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'परमेश्वर का कार्य और मनुष्य का कार्य' से रूपांतरित

पिछला: 155 परमेश्वर का देह और आत्मा सार में एक-समान हैं

अगला: 157 देहधारी मानव पुत्र स्वयं परमेश्वर है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें