189 देह में काम करके ही परमेश्वर इंसान को हासिल कर सकता है

1

व्यवहारिक परमेश्वर के वचनों से,

इंसान की कमज़ोरियों और विद्रोह का फैसला और प्रकाशन होता है।

इंसान को जो चाहिये उसे मिलता है।

परमेश्वर आया है इंसानी दुनिया में, वो देखता है।

लक्ष्य है व्यवहारिक परमेश्वर के काम का,

शैतान के असर से, पंक से, हर एक को बचाना,

दूषित किया शैतान ने जिसे उन्हें उस स्वभाव से छुड़ाना।

परमेश्वर के हासिल करने के मायने हैं, इंसान के पूर्ण आदर्श की तरह,

उसकी मिसाल का अनुकरण करना।

व्यवहारिक परमेश्वर के पीछे चलो, सामान्य मानवता जियो,

उसके वचन और अपेक्षा पूरी करो, वो जो कहे मानो,

वो जो कहे पूरा करो, तब परमेश्वर तुम्हें हासिल कर लेगा।

2

परमेश्वर देह में आया, ताकि देख सके इंसान उसके काम को।

देह धारण किया उसके आत्मा ने, ताकि छू सके इंसान परमेश्वर को,

एकटक निहार सके, और जान सके परमेश्वर को।

इस व्यवहारिक रूप से ही, परमेश्वर पूर्ण करता है इंसान को।

जो बिता सकते हैं अपनी ज़िंदगी परमेश्वर के मुताबिक,

और चल सकते हैं उसके दिल के मुताबिक,

ऐसे ही लोगों को परमेश्वर हासिल कर लेता है।

परमेश्वर के हासिल करने के मायने हैं, इंसान के पूर्ण आदर्श की तरह,

उसकी मिसाल का अनुकरण करना।

व्यवहारिक परमेश्वर के पीछे चलो, सामान्य मानवता जियो,

उसके वचन और अपेक्षा पूरी करो, वो जो कहे मानो,

वो जो कहे पूरा करो, तब परमेश्वर तुम्हें हासिल कर लेगा।

3

अगर परमेश्वर धरती पर न आकर, आसमां से बोलता,

किस तरह इंसान फिर, भगवान को जानता?

तब उसके वचन केवल काम बतलाने को होते,

मगर उसके वचनों के सत्य को न पायेंगे।

परमेश्वर आता है आदर्श बनकर, ताकि देख सके,

छू सके इंसान उसको, और परमेश्वर हासिल कर सके उसको।

परमेश्वर के हासिल करने के मायने हैं, इंसान के पूर्ण आदर्श की तरह,

उसकी मिसाल का अनुकरण करना।

व्यवहारिक परमेश्वर के पीछे चलो, सामान्य मानवता जियो,

उसके वचन और अपेक्षा पूरी करो, वो जो कहे मानो,

वो जो कहे पूरा करो, तब परमेश्वर तुम्हें हासिल कर लेगा।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम्हें पता होना चाहिए कि व्यावहारिक परमेश्वर ही स्वयं परमेश्वर है' से रूपांतरित

पिछला: 188 परमेश्वर की एकमात्र ख़्वाहिश धरती पर

अगला: 190 क्या तुम परमेश्वर के कार्य को जानते हो?

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें