188 परमेश्वर की एकमात्र ख़्वाहिश धरती पर

देहधारण किया है परमेश्वर ने इस बार,

निमंत्रण पर इंसान के हालात को देखकर,

आपूर्ति करने इंसान को उसकी, जिसकी उसे ज़रूरत है।

1

आ रहा है वो हर इंसान को,

चाहे इंसान की काबिलियत या परवरिश कुछ भी हो,

परमेश्वर के वचन दिखाने, उनमें परमेश्वर के अस्तित्व और

परमेश्वर की अभिव्यक्ति को दिखाने,

वचनों से परमेश्वर की पूर्णता को स्वीकार कराने।

उम्मीद है परमेश्वर को बदलेगा विचार और धारणाएँ इंसान अपनी,

ताकि बस जाए मज़बूती से परमेश्वर का सच्चा चेहरा

इंसान के दिल की गहराइयों में।

यही एकमात्र ख़्वाहिश है धरती पर परमेश्वर की,

ख़्वाहिश है धरती पर परमेश्वर की।

2

हो सकती है प्रकृति महान इंसान की,

हो सकता है अधम सार इंसान का,

कैसे भी रहे हों कर्म उसके अतीत में,

ग़ौर करता नहीं इन सब पर परमेश्वर।

नई छवि बना सके अपने दिल में उसकी,

उम्मीद करता है ये इंसान से परमेश्वर।

उम्मीद है परमेश्वर को बदलेगा विचार और धारणाएँ इंसान अपनी,

ताकि बस जाए मज़बूती से परमेश्वर का सच्चा चेहरा,

इंसान के दिल की गहराइयों में।

यही एकमात्र ख़्वाहिश है धरती पर परमेश्वर की।

3

इंसानियत का सार इंसान जानेगा, और वो अपना नज़रिया बदलेगा,

उम्मीद करता है इंसान से परमेश्वर।

गहराई से चाहेगा उसे इंसान, शाश्वत लगाव रखेगा उससे इंसान,

उम्मीद करता है इंसान से परमेश्वर।

बस इतना ही चाहता है इंसान से परमेश्वर।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'कार्य और प्रवेश (7)' से रूपांतरित

पिछला: 187 मानवता के लिये बहुत महत्वपूर्ण देहधारी परमेश्वर

अगला: 189 देह में काम करके ही परमेश्वर इंसान को हासिल कर सकता है

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें