455 परमेश्वर उन्हें पूर्ण करता है जिनमें पवित्रात्मा का कार्य होता है

1

परिस्थितियाँ हो रही हैं बेहतर कुछ लोगों के लिए।

जितना पवित्रात्मा काम करता है उतने ही वे आत्मविश्वास में रहते हैं।

वे जितना अधिक करते हैं अनुभव, उतना अधिक वे महसूस करते हैं

परमेश्वर के कार्य का गहरा रहस्य।

परमेश्वर करता है अपना कार्य मानव के सत्य की प्राप्ति के लिए।

तुम्हारे जीवन का लक्ष्य है उसकी पूर्णता की खातिर,

ताकि एक दिन तुम बनोगे योग्य उसके उपयोग के लिए।

2

जितने गहराई में जाते हैं वे, उतना अधिक समझ पाते हैं,

प्रबुद्ध और स्थिर, परमेश्वर का प्रेम महसूस करते हुये।

उनको प्राप्त हुआ है ज्ञान परमेश्वर के कार्य का।

ये हैं वो लोग जिन पर कार्य पवित्र आत्मा करता है।

परमेश्वर करता है अपना कार्य मानव के सत्य की प्राप्ति के लिए।

तुम्हारे जीवन का लक्ष्य है उसकी पूर्णता की खातिर,

ताकि एक दिन तुम बनोगे योग्य उसके उपयोग के लिए।

3

परमेश्वर की साक्षी देना और उसकी इच्छा को संतुष्ट करना

मानव का उसके वचन के अनुसरण करने की इच्छा पर है निर्भर।

परमेश्वर की साक्षी देना और उसकी इच्छा को संतुष्ट करना

मानव का उसके वचन के अनुसरण करने की इच्छा पर है निर्भर।

परमेश्वर करता है अपना कार्य मानव के सत्य की प्राप्ति के लिए।

तुम्हारे जीवन का लक्ष्य है उसकी पूर्णता की खातिर,

परमेश्वर करता है अपना कार्य मानव के सत्य की प्राप्ति के लिए।

तुम्हारे जीवन का लक्ष्य है उसकी पूर्णता की खातिर,

ताकि एक दिन तुम बनोगे योग्य उसके उपयोग के लिए।

— "वचन देह में प्रकट होता है" में 'तुम्हें परमेश्वर के प्रति अपनी भक्ति बनाए रखनी चाहिए' से रूपांतरित

पिछला: 454 पवित्र आत्मा ज़्यादा कार्य करता है उनमें, पूर्ण किये जाने की तड़प है जिनमें

अगला: 456 पवित्र आत्मा के कार्य को अपने प्रवेश में लेकर चलो

परमेश्वर की ओर से एक आशीर्वाद—पाप से बचने और बिना आंसू और दर्द के एक सुंदर जीवन जीने का मौका पाने के लिए प्रभु की वापसी का स्वागत करना। क्या आप अपने परिवार के साथ यह आशीर्वाद प्राप्त करना चाहते हैं?

संबंधित सामग्री

775 तुम्हारी पीड़ा जितनी भी हो ज़्यादा, परमेश्वर को प्रेम करने का करो प्रयास

1समझना चाहिये तुम्हें कितना बहुमूल्य है आज कार्य परमेश्वर का।जानते नहीं ये बात ज़्यादातर लोग, सोचते हैं कि पीड़ा है बेकार:अपने विश्वास के...

610 प्रभु यीशु का अनुकरण करो

1पूरा किया परमेश्वर के आदेश को यीशु ने, हर इंसान के छुटकारे के काम को,क्योंकि उसने परमेश्वर की इच्छा की परवाह की,इसमें न उसका स्वार्थ था, न...

सेटिंग

  • इबारत
  • कथ्य

ठोस रंग

कथ्य

फ़ॉन्ट

फ़ॉन्ट आकार

लाइन स्पेस

लाइन स्पेस

पृष्ठ की चौड़ाई

विषय-वस्तु

खोज

  • यह पाठ चुनें
  • यह किताब चुनें

WhatsApp पर हमसे संपर्क करें